सॉफ्टवेयर बताएगा समस्याओं पर कितना हुआ काम

कलक्टर डॉ. जोगराम ने खुद एक सॉफ्टवेयर इजाद किया है।

सरकारी योजनाओं में जनता को आ रही परेशानी और उनकी शिकायतों का जल्द समाधान करने के लिए जयपुर कलक्टर ने अभिनव प्रयोग शुरू किया है। कलक्टर डॉ. जोगराम ने खुद एक सॉफ्टवेयर इजाद किया है।
इंपोर्टेंट डाक मॉनिटरिंग सिस्टम (आईडीएमएस) इन दिनों कलक्ट्रेट में चर्चाओं में है। कारण है कि इस सिस्टम के जरिए कलक्ट्रेट में आने वाली जनता की शिकायत और समस्याओं की डाक की मॉनिटरिंग कलक्टर खुद कर रहे हैं।
मुख्यमंत्री, शासन सचिवालय, मंत्रियों, विधायकों, आयोगों से संबंधित विभागों सहित कानून व्यवस्था से जुड़े तमाम पत्रों की डाक सीधे इस सिस्टम में आ सकेंगी। इससे सभी प्रकरणों का समय पर निपटारा हो सकेगा। अभी जयपुर में इस पोर्टल पर 459 शिकायतें पेंडिंग चल रही हैं। 12 मामलों का निस्तारण कर दिया गया है। सबसे ज्यादा ओआईसी विजिलेंस के पास 235 और एडीएम साउथ के पास 90 प्रकरण लंबित चल रहे हैं।
क्या है आईडीएमएस सिस्टम
पूरा नाम: इंपोर्टेंट डाक मॉनिटरिंग सिस्टम
कौन-कौन होंगे दायरे में: एडीएम, एसडीएम, तहसीलदार, जिला स्तरीय विभागीय अधिकारी, ओआईसी
कैसे करेगा काम: सबसे पहले डाक सिस्टम में चढ़ेगी, समय बताया जाएगा और मॉनिटरिंग होगी।
क्या पड़ेगा असर: महत्वपूर्ण डाक का समय पर निस्तारण होगा, आमजन को राहत मिलेगी
क्यों किया गया इजाद: सैकड़ों की संख्या में डाक आने से कुछ पत्र इधर-उधर हो जाते थे, जिसके कारण मॉनिटरिंग नहीं हो पाती थी।

अभिषेक व्यास
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned