प्रियंका गांधी वाड्रा का हठ योग : पीडि़तों से मिले बिना नहीं लौटने पर अड़ी

प्रियंका गांधी वाड्रा का हठ योग : पीडि़तों से मिले बिना नहीं लौटने पर अड़ी
प्रियंका गांधी वाड्रा का हठ योग : पीडि़तों से मिले बिना नहीं लौटने पर अड़ी

Sanjay Kaushik | Updated: 20 Jul 2019, 02:44:20 AM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

Sonbhadra News : सोनभद्र(Sonbhadra ) नरसंहार(Massacre) के मृतकों से मिलने गई प्रियंका गांधी वाड्रा(Priyanka Gandhi Vadra) को रोका, प्रियंका ने इसे बताया किडनैपिंग...मिलने पर अड़ीं, धरने(Protest) पर। भाजपा ने बताई ओछी राजनीति। राहुल गांधी(Rahul Gandhi) बोले मनमानी पर उतरी यूपी की भाजपा सरकार।

सोनभद्र में नरसंहार :

-भाजपा ने करार दिया ओछी राजनीति

लखनऊ/मिर्जापुर। उत्तर प्रदेश के आदिवासी बाहुल्य सोनभद्र में हुए नरसंहार के मृतकों के परिजनों से मिलने जा रहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को शुक्रवार को रास्ते में रोक लिया गया। हिंसा प्रभावित क्षेत्र घोरावल जाने को अड़ी कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा अपने कदम पीछे खींचने को तैयार नहीं हैं, वहीं राज्य की भाजपा सरकार ने आरोप लगाया है कि विवाद की जन्मदाता और पोषक कांग्रेस इस संवेदनशील मामले में ओछी राजनीति कर रही है।

-प्रियंका ने कहा...यह तो किडनैपिंग है

प्रियंका वाड्रा ने कहा कि सोनभद्र में मानवता शर्मसार हुयी है। मै पीडि़त परिवारों से जरूर मिलने जाऊंगी। वहां दस निर्दोष लोगों ने अपनी जान उस जमीन के लिये गंवाई है, जिस पर उनकी पुश्तें हल चलाती आई हैं। कांग्रेस उनको न्याय दिलाने और उनके आंसू पोंछने की हर मुमकिन कोशिश करेगी। मुझे अलोकतांत्रिक तरीके से जाने से रोका गया है। मैने प्रशासन से पूछा है कि उन्हे किस आधार पर रोका गया है और अगर वहां निषेधाज्ञा लागू है तो मै सिर्फ तीन लोगों के साथ जाने को तैयार हूं। मैं पीडि़त परिवारों से मिले बगैर नहीं जाऊंगी। सोनभद्र में पीडि़त परिवार वालों से मिलने के लिए जाते समय रोकी गईं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने चुनार किले पर सीओ से कहा कि बिना वारंट के गिरफ्तारी नहीं होती है। यह तो किडनैपिंग है। इसके बाद सीओ हितेंद्र कृष्ण ने कहा कि मैम बगैर वारंट के भी गिरफ्तारी हो सकती है। प्रियंका गांधी को इसके बाद चुनार गेस्ट हाउस ले जाया गया।

-यूपी सरकार का पक्ष

इस बीच लखनऊ में उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने एक प्रेसवार्ता में कहा कि सरकार की प्राथमिकता प्रभावित जिले में शांति व्यवस्था कायम रखने की है और इसीलिए वहां धारा 144 लागू की गई है। कांग्रेस महासचिव को एसपीजी सुरक्षा प्राप्त है। इस नाते राज्य सरकार का दायित्व उनको पर्याप्त सुरक्षा मुहैया कराना है। बगैर अनुमति जाने की जिद कांग्रेस की ओछी राजनीति का द्योतक है। कांग्रेस नेता प्रियंका पीड़ति परिवारों के समक्ष घडिय़ाली आंसू बहाने आई है। अच्छा होता कि वह उपजे विवाद के उन कारणों की तह पर जाती और एक जिम्मेदार और जवाबदेह दल का फर्ज निभाती।

-विवाद की नींव 1955 में पड़ी : दिनेश शर्मा

उपमुख्यमंत्री शर्मा ने कहा कि जिस जमीन के लिए खूनी संघर्ष हुआ, उसके विवाद की नींव 1955 में पड़ गयी थी, जब ग्राम सभा की जमीन को 1985 में ट्रस्ट के नाम कर दिया गया था, जबकि 1989 में इस जमीन को कुछ के नाम पर चढा कर दाखिल खारिज करा दिया गया। वर्ष 2017 में इन लोगों ने जमीन को व्यक्तिगत रूप से कुछ अन्य को बेच दिया और फिर इन लोगों ने आदिवासी किसानों पर दवाब बनाना शुरू किया। 1955 और 1985 से 1989 के बीच प्रदेश में कांग्रेस की सरकार थी। मौजूदा सरकार ने इस पूरे घालमेल पर पर्दा उठाने के लिए अपर मुख्य सचिव राजस्व रेणुका कुमार के नेतृत्व में तीन सदस्यीय समिति का गठन किया है, जो अपनी रिपोर्ट दस दिनो के भीतर सरकार को सौंपेगी।

-प्रशासन ने गेस्ट हाउस की बिजली काटी : कांग्रेस

प्रियंका गांधी वाड्रा को मिर्जापुर के चुनार गेस्ट हाउस में ठहराया गया है, जहां कांग्रेस कार्यकर्ताओं का आरोप है कि प्रशासन ने जानबूझ कर यहां की बत्ती गुल कर दी है। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कहा कि जिला प्रशासन ने जानबूझ कर अतिथिगृह की बिजली काट दी है, ताकि हम यहां से वापस लौट जाएं लेकिन हम मोमबत्ती की रोशनी में भी रात गुजारने को तैयार हैं। हमारा धरना जारी रहेगा। प्रशासन ने उनके खाने और दूसरी जरूरतों का कोई प्रबंध नहीं कराया है।

-प्रियंका को रोकने के खिलाफ वाराणसी में कांग्रेस का प्रदर्शन

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को शुक्रवार सोनभद्र 'नरसंहार' कांड के पीडि़त परिजनों से उनके घर जाने से रोकने पर वाराणसी में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने लहुराबीर चौराहे पर धरना-प्रदर्शन किया और राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार पर 'तानाशाही' का रवैया अपनाने का आरोप लगाते हुए कहा कि वाड्रा को रोकना 'लोकतंत्र की हत्याÓ जैसा कदम है। प्रदेश की भाजपा सरकार ने कांग्रेस महासचिव को सामाजिक एवं लोकतांत्रिक कर्तव्यों का निर्वहन करने से रोकने के लिए पुलिस का सहारा लिया है।

-मनमानी पर उतरी यूपी की भाजपा सरकार : राहुल

कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे चुके राहुल गांधी ने पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को रोके जाने को अवैध तथा दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए आरोप लगाया है कि उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार मनमानी पर उतर आई है और सत्ता का दुरुपयोग कर रही है। सोनभद्र में अपनी जमीन खाली करने से मना करने वाले किसानों की गोली मारकर निर्मम हत्या की गई थी और पीडि़त परिजनों से मिलने जाते समय उन्हें बलपूर्वक रोकना सत्ता की शक्ति का दुरुपयोग है। इससे साबित होता है कि यूपी की भाजपा सरकार में असुरक्षा बढ़ रही है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned