एसपी ने माना, रोजनामचे में लिखी थी दबाव की बात

विष्णुदत्त आत्महत्या प्रकरण

By: jagdish paraliya

Updated: 26 May 2020, 05:01 PM IST

सादुलपुर (चूरू) . राजगढ़ थाना अधिकारी विष्णुदत्त विश्नोई दबाव में थे, यह साफ हो गया है। चूरू पुलिस अधीक्षक तेजस्विनी गौतम ने सोमवार को पत्रकारों से कहा कि दबाव में होने की बात विष्णुदत्त ने रोजनामचे में लिखी थी। जवानों से बात करने सादुलपुर पहुंचीं एसपी ने थाना स्टाफ के तबादला अनुरोध पर कहा, अधिकतर स्टाफ ने माना है कि भावना में बहकर अनुरोध कर दिया। कई जवानों ने पहले से तबादला अर्जी दे रखी है। इधर, विष्णुदत्त ने सादुलपुर में कार्यभार संभालने के महीनेभर बाद ही नए थाना भवन के निर्माण के लिए प्रमुख लोगों की कमेटी बना दी थी। विष्णुदत्त 13 थानों की सूरत संवार चुके थे।

सुसाइड नोट दो या तीन?
एएसपी भरतराज ने बताया कि घटना स्थल से दो ही सुसाइड नोट मिले। दवा की पर्ची के पीछे आधे-आधे हिस्से में दोनों सुसाइड नोट लिखे थे। तीन सुसाइड नोट की बात अफवाह है।

नई बिल्डिंग के लिए बनाई थी कमेटी
विश्नोई ने 19 सितंबर 2019 को यहां कार्यभार संभाला था। उन्होंने थाने के नए भवन निर्माण के लिए कमेटी का गठन किया। कमेटी में शामिल निवर्तमान पालिकाध्यक्ष मंगतूराम मोहता ने बताया कि जो भी चेक या नकद पैसा आया, भवन निर्माण पर ही खर्च किया गया। जिसका पूरा लेखा-जोखा उनके पास है।
सीबीआइ जांच हो
राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी सभी जिला मुख्यालयों पर बुधवार को आत्महत्या प्रकरण की जांच सीबीआइ से करवाने की मांग को लेकर प्रदर्शन करेगी। थाने के स्टाफ द्वारा सामूहिक तबादले की मांग को लेकर दिया गया पत्र तथा कर्तव्यनिष्ठ पुलिस अधिकारी द्वारा आत्महत्या करना गंभीर मामला है।
हनुमान बेनीवाल, सांसद नागौर

राजनीतिक रंग देना गलत
जिस प्रकार से भाजपा इस मुद्दे को राजनीतिक रंग दे रही है वह उचित नहीं है। विधायक कृष्णा पूनिया को जिस प्रकार से बिना तथ्यों के इस विवाद में घसीटा जा रहा है, इससे भाजपा को बाज आना चाहिये। वे माहौल खराब करने का प्रयास कर रहे हैं जो निन्दनीय है। कानून अपना काम कर रहा है।
उदय लाल आंजना, सहकारिता मंत्री

Show More
jagdish paraliya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned