फिजांओं में गूंजते राम के आदर्श और कृष्ण का तत्व ज्ञान

rajesh walia

Publish: Oct, 13 2017 06:25:28 (IST)

Jaipur, Rajasthan, India
फिजांओं में गूंजते राम के आदर्श और कृष्ण का तत्व ज्ञान

बोलती रामायण के डिवाइस हर उम्र के लोगों के बीच आकर्षण का केन्द्र बना हुआ है।

जयपुर।

 

बदलते दौर के साथ पठन-पाठन का शौक और साहित्य भी डिजिटाइजेशन की ओर बढ़ रहा है। एक समय जन-जन के लिए रामचरित मानस को सुलभ बनाने और घर-घर तक इसे पहुंचाने के लिए अथक प्रयास किए गए थे।

ऐसा ही प्रयास एक बार फिर नए तरीके से हो रहा है। एसएमएस इन्वेस्टमेंट ग्राउण्ड, अम्बेडकर सर्किल व अमरूदों के बाग में चल रहे राजस्थान पत्रिका के दिवाली शॉपिंग फेस्टिवल व दिवाली कार्निवल में बोलती रामायण के डिवाइस हर उम्र के लोगों के बीच आकर्षण का केन्द्र बना हुआ है।

यह ऐसा डिवाइस है, जिसमें बालकांड से लेकर उत्तरकांड तक के दोहे और चौपाइयों की संगीतमय रिकॉर्डिंग की गई है। इसमें अजय मूंदड़ा की आवाज और संगीत के साथ रामायण का सम्पूर्ण पाठ 21 घंटे और तीन घंटे में गीता की संगीतमय प्रस्तुति समाहित है।

सुंदरकांड का पाठ अलग से बोलती रामायण एक ऐसी अनूठी रचना है जिसमें रामचरितमानस के सभी दोहे और चौपाइयां रिकॉर्डेड हैं। इसमें अनवरत 21 घंटे का अक्षरश: सम्पूर्ण रामचरितमानस पाठ है। जबकि यदि कोई टुकड़ों में रामचरितमानस पाठ करना चाहे तो सात कांड और दोहे अलग-अलग भी सुन सकता है।

सुंदरकांड का पाठ भी अलग से किया जा सकता है। लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज यह डिजिटल डिवाइस है, जो की-पेड मोबाइल की तरह काम करता है। बटन दबाते ही रामायण की चौपाइयों के मधुर गायन का प्रवाह शुरू हो जाता है।

रामायण के सातों कांड का सम्पूर्ण गायन पहली बार करने के लिए लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में इसका नाम भी दर्ज हो चुका है। इस बोलती रामायण का प्रचार कर रहे श्रीकांता माहेश्वरी और अभय माहेश्वरी बताते हैं कि नई पीढ़ी में रामचरित मानस और गीता के प्रति श्रद्धा एवं जिज्ञासा पैदा करने में इससे मदद मिल रही है।

इसके जरिए नई पीढ़ी में राम के आदर्शों को उपहार के रूप में आसानी से हस्तांतरित किया जा सकता है। संपूर्ण रामचरित मानस के गायन की परिकल्पना श्रीसीमेंट के चेयरमैन समाजसेवी वेणु गोपाल बांगड़ ने की थी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned