8 केआईएससीई को मिलेगी 4 साल में 95 करोड़ रुपए की मदद

खेल मंत्रालय ने बताया है कि आठ राज्यों की खेल सुविधाओं को 95.19 करोड़ रुपये की मदद से खेलो इंडिया स्टेर सेंटर ऑफ एक्सीलेंस (केआईएससीई) में अपग्रेड किया जाएगा।

By: satish

Published: 17 Sep 2020, 08:21 PM IST

नई दिल्ली। खेल मंत्रालय ने बताया है कि आठ राज्यों की खेल सुविधाओं को 95.19 करोड़ रुपये की मदद से खेलो इंडिया स्टेर सेंटर ऑफ एक्सीलेंस (केआईएससीई) में अपग्रेड किया जाएगा। भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) द्वारा जारी बयान के मुताबिक, खेल सुविधाओं को केआईएससीई में बदलने के पहले चरण में ओडिशा, मिजोरम, तेलंगाना, मणिपुर, नगालैंड, अरुणाचल प्रदेश, कर्नाटक और केरल को चुना गया है।
इन सेंटरों को समर्थन इंफ्रस्टक्चर में सुधार, स्पोट्र्स साइंस सेंटर की स्थापना के अलावा अच्छे प्रशिक्षक, स्पोट्र्स साइंस ह्यूमन रिसोर्स, फिजियोथैरेपिस्ट, स्ट्रेंग्थ एंड कंडीशनिंग एक्सपर्ट जैसी सुविधाएं भी मुहैया कराई जाएंगी। खिलाडिय़ों को उच्च स्तर के इक्वीपमेंट भी दिए जाएंगे। अकादमी में हाई परफॉर्मेंस मैनेजर भी होंगे। खेल मंत्रालय हर राज्य में मौजूद खेल इंफ्रस्ट्रक्चर को अपग्रेड कर रही है और उसे केआईएससीई में तब्दील कर रही है जिसका मकसद देश में एक बेहतरीन स्पोट्र्स इकोसिस्टम बनाना है।
खेल मंत्री किरण रिजिजू ने कहा, खेलो इंडिया स्टेट सेंटर ऑफ एक्सीलेंस देश में स्पोटर्स इकोसिस्टम बनाने की प्रक्रिया में उठाया गया एक कदम है। उन्होंने कहा, यह सेंटर एक खेल के खिलाड़ी को उच्च स्तर की सुविधाएं और ट्रेनिंग देंगे और यह सेंटर ट्रेनिंग के लिए देश में सर्वश्रेष्ठ सेंटर बनें, यह हमारी कोशिश है। मैं इस बात को लेकर आश्वस्त हूं कि यह कदम भारत के 2028 ओलंमिक खेलों में शीर्ष-10 में शामिल होने के लक्ष्य को हासिल करने मेरी मदद करेगा।

satish Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned