यूपीए सरकार में शुरू हुए EVM का कांग्रेस ही कर रही विरोध, ये है बड़ी वजह

Prahlad Choudhary

Publish: Jan, 24 2019 09:04:18 PM (IST)

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

ईवीएम कितनी सुरक्षित है ? ये सवाल मानों एक ऐसा जिन्न बन गया है कि जो जैसे-तैसे बोतल तो में बंद होता है और हर बार चुनाव में कोई न कोई, किसी न किसी तरह बंद बोतल का ढक्कन खोल देता है और सवाल,शंकाओं की नई फेहरिस्त शुरू हो जाती है। ईवीएम पर विवाद का ताजा गुबार भारत से नहीं बल्कि लंदन से उठा हैं, जहां एक हैकर ने भारतीय ईवीएम को न सिर्फ हैक करने का बल्कि कई राजनीतिक दलों से इस काम के लिए संपर्क करने का दावा किया। ईवीएम बनाने वाली कंपनी ने ईसीआईएल ने शुजा के बयानों को खारिज किया है। शुजा अपने बयानों के लिए पुख्ता दलील और सबूत नहीं दिए लेकिन देश की राजनीति को चाहिए मुद्दों की खुराक...विपक्षी दल ईवीएम पर फिर शंका जताने लगे तो बीजेपी ने लंदन में हुई प्रेस कांफ्रेंस में कांग्रेसी नेता कपिल सिब्बल की मौजूदगी पर सवाल खडे कर पूरे मामले को प्रायोजित करार दिया। इस बीच आज मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने दो टूक कह दिया कि बैलेट पर फिर लौटने का सवाल ही नहीं। मुद्दा ये कि क्या ईवीएम टेक्नोलॉजी, राजनीति का शिकार हो रही है ? आती-जाती सत्ता में ईवीएम को लेकर रूख़ बदलते नेताओं को हमनें देखा है,सुना है...क्या इस देश में अब वो वक्त आ चुका है जब ईवीएम को लेकर स्पष्ट राय बनें ? क्या सरकार और विपक्ष ये जिम्मेदारी उठाने को तैयार है...?
ईवीएम लोकतंत्र को आधुनिक तकनीक से जोड़ने वाली कड़ी है। ईवीएम में होने वाली परेशानियां कम नहीं है,चुनावों में ईवीएम खराबी की खबरें आती रहती हैं। हैकिंग के तो कोई स्पष्ट सबूत नहीं,लेकिन ईवीएम खराबी के चलते पोलिंग बूथों पर बढ़ती कतारों को हमनें देखा है। राजनीतिक दलों के बयानों से लेकर व्यवस्थागत खामियों तक, चुनौती चुनाव आयोग के सामने हैं। अगर ईवीएम ही बेहतर विकल्प है तो इस पर कायम रहे, वाजिब शंकाओं का समाधान करे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned