औद्योगिक इकाइयों पर नजर रखेगा राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल

हर महीने सीईटीपी अधिकारी करेंगे प्रदूषण का आंकलन, फिर से किया जाएगा सर्वे

By: SAVITA VYAS

Published: 18 Oct 2020, 07:01 PM IST

जयपुर। दिवाली के बाद राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल प्रदेशभर में औद्योगिक इकाइयों का पुन:सर्वे करवाने की कवायद करेगा, ताकि यहां होने वाले कामकाज सहित अन्य गतिविधियों की पालना रिपोर्ट तैयार की जा सके। इसके लिए मंडल सदस्य सचिव उदयशंकर ने आलाधिकारियों को दिशा-निर्देश जारी किए हैं। मंडल इन इकाइयों में प्रदूषण समस्या का गहनता से अध्ययन करेगा। कई बार प्रदूषण को लेकर एनजीटी ने राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल की पालना रिपोर्ट भी मांगी थी, इसको लेकर मंडल की कार्यशैली पहले भी सवालों के घेरे में आ चुकी है।

हर महीने देनी होगी रिपोर्ट

उद्योगों में प्लांट में स्थापित लेबोरेट्री, पायलट प्रोजेक्ट की रिपोर्ट, ट्रीटमेंट प्लांट में ट्रीट होने वाले पानी की गुणवत्ता तथा जेडएलडी प्रोजेक्ट को लेकर बनाए जा रहे फाउंडेशन का निरीक्षण किया जाएगा। यहां पर सीईटीपी पदाधिकारियों को इसकी जिम्मेदारी तय की जाएगी। यह रिपोर्ट तैयार कर अधिकारियों को देनी होगी। गौरतलब है कि प्रदेशभर में उद्यमी संगठनों की ओर से छोटी फैक्ट्रियों की बची हुई केएलडी को आवंटित करने की अनुमति देने, केएलडी ट्रांसफर को 100 प्रतिशत करने, मशीनों में बदलाव करने की अनुमति देने समेत कई मांगों को मंडल के समक्ष रखा है।

यह भी किया बदलाव

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण मंडल सीपीसीबी ने जयपुर, उदयपुर, कोटा, जोधपुर तथा अलवर को सबसे ज्यादा प्रदूषण वाले शहरों में माना है। अब पुन: ईंट भट्टा संचालकों को वायु प्रदूषण नियंत्रण के तहत ईंधन की खपत और भट्टों को संचालन की अनुमति लेनी होगी। इसके लिए ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया को ओर आसान बनाया गया है। मंडल के अधिकारियोंं के मुताबिक नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेश की पालना में किया जा रहा है।

SAVITA VYAS Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned