शेयर बाजार में हाहाकार, 624 अंक टूटा बाजार

मुंबई। आर्थिक मंदी ( Financial crisis ) की आशंका में विदेशी शेयर बाजारों ( International market ) में रही भारी गिरावट के दबाव में घरेलू शेयर बाजारों ( domestic market ) में भी मंगलवार को निवेशकों ( invester ) की चौतरफा बिकवाली देखने को मिली और बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स ( sensex ) 623.75 अंक यानी 1.66 प्रतिशत लुढ़ककर 36,958.16 अंक पर आ गया। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी ( nifty ) भी 183.80 अंक यानी 1.65 प्रतिशत की गिरावट में 10,925.85 अंक पर बंद हुआ।

By: Narendra Kumar Solanki

Published: 13 Aug 2019, 07:10 PM IST

यह दोनों प्रमुख सूचकांकों का सात अगस्त के बाद का निचला स्तर है। डॉलर की तुलना में रुपए के कमजोर पडऩे से भी घरेलू बाजारों पर दबाव रहा। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल में गिरावट के कारण ऊर्जा और तेल एवं गैस समूहों में रही, क्रमश: 5.98 प्रतिशत और 1.05 प्रतिशत की तेजी को छोड़ दें तो बीएसई के अन्य 18 समूह लाल निशान में रहे। बीएसई का मिडकैप 2.25 प्रतिशत लुढ़ककर 13,362.90 अंक पर और स्मॉलकैप 1.42 प्रतिशत की गिरावट में 12,519.43 अंक पर आ गया। बीएसई में कुल 2661 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ, जिनमें 1652 के शेयर लाल निशान में और 861 के हरे निशान में रहे, जबकि 148 कंपनियों के शेयर दिन भर के उतार-चढ़ाव के बाद अंतत: अपरिवर्तित बंद हुए।

यह रहा कारण
रिलायंस जियो के गीगा फाइबर संबंधी घोषणा से दूरसंचार क्षेत्र की अन्य कंपनियों पर दबाव पड़ा और इस समूह के सूचकांक में करीब साढ़े चार प्रतिशत की गिरावट रही। वाहनों की बिक्री में सदी की सबसे बड़ी गिरावट के आज जारी आंकड़े वाहन निर्माता कंपनियों के शेयर लुढ़क गए और उनका सूचकांक भी करीब चार फीसदी टूट गया। पूंजीगत वस्तुओं और वित्त समूहों में तीन फीसदी से अधिक की गिरावट रही। अमेरिका और चीन के बीच जारी व्यापार युद्ध के कारण विदेशी पूंजी बाजारों पर भी दबाव रहा। हांगकांग में लोकतंत्र समर्थकों के प्रदर्शन और अर्जेंटीना में जारी मुद्रा संकट के मद्देनजर वैश्विक आर्थिक मंदी की आशंका भी गहरा गई है।

विदेशी बाजारों में भी भारी गिरावट
एशिया में चीन का शंघाई कंपोजिट 0.63 प्रतिशत, दक्षिण कोरिया का कोस्पी 0.85 प्रतिशत, जापान का निक्की 1.11 प्रतिशत और हांगकांग का हैंगसेंग 2.10 प्रतिशत लुढ़क गया। यूरोप में शुरुआती कारोबार में ब्रिटेन के एफटीएसई में 0.56 फीसदी और चीन के शंघाई कंपोजिट में 0.63 फीसदी की गिरावट रही। विदेशी बाजारों में दबाव में घरेलू बाजारों में भी चौतरफा बिकवाली रही। मझौली और छोटी कंपनियों पर भी दबाव रहा।

Narendra Kumar Solanki Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned