scriptstrike of Hallmark Centers, business of 200 crores will be affected | Hallmark centers strike: हॉलमार्क सेंटर्स की प्रदेशव्यापी हड़ताल, 2 सौ करोड़ का कारोबार होगा प्रभावित | Patrika News

Hallmark centers strike: हॉलमार्क सेंटर्स की प्रदेशव्यापी हड़ताल, 2 सौ करोड़ का कारोबार होगा प्रभावित

बुधवार को प्रदेभर में हॉलमार्क सेंटर्स (Hallmark centers ) पर हड़ताल रही। इसके कारण लगभग 25 हजार सोने के ज्वैलरी पीस पर हॉलमार्किंग नहीं हो पाई। इस हड़ताल के कारण प्रदेश में एक दिन में करीब 2 सौ करोड़ का कारोबार प्रभावित हुआ।

जयपुर

Published: June 01, 2022 01:41:25 pm

बुधवार को प्रदेभर में हॉलमार्क सेंटर्स पर हड़ताल रही। इसके कारण लगभग 25 हजार सोने के ज्वैलरी पीस पर हॉलमार्किंग नहीं हो पाई। इस हड़ताल के कारण प्रदेश में एक दिन में करीब 2 सौ करोड़ का कारोबार प्रभावित हुआ। हड़ताल के दौरान हॉलमार्क सेंटर संचालक स्‍टेच्‍यू सर्किल पर प्रदर्शन किया। गौरतलब है कि राजस्थान भारतीय मानक ब्यूरो ने शहर में हॉलमार्क सेंटर संचालन के लिए राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की एनओसी अनिवार्य कर दी है, लेकिन बोर्ड हॉल मार्क सेंटर्स को एनओसी नहीं दे रहा है और हॉलमार्क सेंटर संचालकों पर अपने सेंटर्स को शहर से बाहर औद्योगिक क्षेत्रों में ले जाने का दबाव डाल रहा है, इसके विरोध में हॉलमार्क सेंटर संचालक आंदोलन कर रहे हैं, इनका कहना है कि सोने की ज्वेलरी को शहर के बाहर औद्योगिक क्षेत्रों में लाना ले जाना जोखिम का काम है, यह निर्णय व्यवहारिक नहीं है, इसके कारण ज्वेलर्स, उपभोक्ता और हॉलमार्क सेंटर संचालक सभी को भारी परेशानी झेलनी पड़ेगी।
Hallmark centers strike: हॉलमार्क सेंटर्स की प्रदेशव्यापी हड़ताल, 2 सौ करोड़ का कारोबार होगा प्रभावित
Hallmark centers strike: हॉलमार्क सेंटर्स की प्रदेशव्यापी हड़ताल, 2 सौ करोड़ का कारोबार होगा प्रभावित
इसलिए हो रही है हड़ताल
केंद्र सरकार ने सोने के गहनों पर हॉलमार्क अनिवार्य कर दिया है। अत: जहां सोने के गहनों की बिक्री होती है उसके आसपास ही हॉलमार्क सेंटर होने चाहिए, लेकिन बीआईएस ने आदेश जारी कर दिया है कि प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की एनओसी के बिना शहर में हॉलमार्क सेंटर्स का संचालन नहीं किया जा सकता। राजस्‍थान में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड एनओसी देने को तैयार नहीं है और हॉलमार्क सेंटर्स को औद्योगिक क्षेत्रों में ले जाने के लिए दबाव बनाया जा रहा है, जो व्‍यवहारिक नहीं है। सोने के गहनों को शहर से दूर लाना ले जाना बेहद जोखिम भरा काम है। वस्‍तुस्‍थिति को देखते हुए दिल्‍ली, उत्‍तर प्रदेश, मध्‍य प्रदेश, पंजाब, चंडीगढ़ में सरकार ने एनओसी जारी कर दी, लेकिन राजस्‍थान में हॉलमार्क संचालक एनओसी के लिए कई महीनों से अधिकारियों और मंत्रियों के यहां चक्‍कर काट रहे हैं।
शहर से दूर ले जाना बेहद जोखिम भरा
राजस्‍थान हॉलमार्क एसोसिएशन के अध्यक्ष सुमेर मौसूण ने कहा कि राजस्‍थान में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड एनओसी देने को तैयार नहीं है और हॉलमार्क सेंटर्स को औद्योगिक क्षेत्रों में ले जाने के लिए दबाव बनाया जा रहा है, जो व्‍यवहारिक नहीं है। सोने के गहनों को शहर से दूर लाना ले जाना बेहद जोखिम भरा काम है। वस्‍तुस्‍थिति को देखते हुए दिल्‍ली, उत्‍तर प्रदेश, मध्‍य प्रदेश, पंजाब, चंडीगढ़ में सरकार ने एनओसी जारी कर दी, लेकिन राजस्‍थान में हॉलमार्क संचालक एनओसी के लिए कई महीनों से अधिकारियों और मंत्रियों के यहां चक्‍कर काट रहे हैं। हॉलमार्क सेंटर संचालकों ने कहा अगर सरकार हमारी मांगे नहीं मानती है तो प्रदेश के सभी हॉलमार्क सेंटर्स अनिश्‍चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

राजस्थान में इंटरनेट कर्फ्यू खत्म, 12 जिलों में नेट चालू, पांच जिलों में सुबह खत्म होगी नेटबंदीनूपुर शर्मा पर डबल बेंच की टिप्पणियों को वापस लिया जाए, सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस के समक्ष दाखिल की गई Letter PettitionENG vs IND Edgbaston Test Day 1 Live: ऋषभ पंत के शतक की बदौलत भारतीय टीम मजबूत स्थिति मेंMaharashtra Politics: महाराष्ट्र बीजेपी अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने देवेंद्र फडणवीस के डिप्टी सीएम बनने की बताई असली वजह, कही यह बातजंगल में सर्चिंग कर रहे जवानों पर नक्सलियों ने की फायरिंगपंचायत चुनाव: दो पुलिस थानों ने की कार्रवाई, प्रत्याशी का चुनाव चिन्ह छाता तो उसने ट्राली भर छाता बंटवाने भेजे, पुलिस ने किए जब्तMonsoon/ शहर में साढ़े आठ इंच बारिश से सडक़ों पर सैलाब जैसा नजारा, जन जीवन प्रभावित2 जुलाई को छ.ग. बंद: उदयपुर की घटना का असर छत्तीसगढ़ में, कई दलों ने खोला मोर्चा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.