बर्तन मांजते और झाडू लगाती मिलीं छात्राएं

बर्तन मांजते और झाडू लगाती मिलीं छात्राएं

Abhishek Sharma | Publish: Feb, 09 2016 11:30:00 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

शिक्षा विभाग के दावों के विपरीत सरकारी विद्यालयों में पढऩे वाले छात्र-छात्राओं को पढ़ाई से पहले विद्यालयों की साफ सफाई करनी पड़ रही है। यहां तक कि कई विद्यालयों में तो चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के अभाव में पढ़ाई से पहले बच्चों को कक्षाकक्षों में झाडू लगाना पड़ता है। मंगलवार को बस्सी पंचायत समिति के प्रधान गणेश नारायण शर्मा ने ग्राम पंचायत सुमेल, बगराना, विजयपुरा के सरकारी विद्यालयों का औचक निरीक्षण किया तो शिक्षा विभाग के दावों की पोल खुलकर सामने आ गई।

शिक्षा विभाग के दावों के विपरीत सरकारी विद्यालयों में पढऩे वाले छात्र-छात्राओं को पढ़ाई से पहले विद्यालयों की साफ सफाई करनी पड़ रही है। यहां तक कि कई विद्यालयों में तो चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के अभाव में पढ़ाई से पहले बच्चों को कक्षाकक्षों में झाडू लगाना पड़ता है। मंगलवार को बस्सी पंचायत समिति के प्रधान गणेश नारायण शर्मा ने ग्राम पंचायत सुमेल, बगराना, विजयपुरा के सरकारी विद्यालयों का औचक निरीक्षण किया तो शिक्षा विभाग के दावों की पोल खुलकर सामने आ गई।
अवलोकन के दौरान राजकीय माध्यमिक विद्यालय सुमेल में दो बालिकाएं पोषाहार के बर्तन धो रही थी और दो बालिका परिसर में झाडू लगा रही थी। विद्यालय में गंदगी फैल थी। प्रधान द्वारा इस बाबत पूछने पर संस्था प्रधान रजनी पारीक ने बताया कि साफ-सफाई तो नियमित होती है, लेकिन आस-पास के लोग विद्यालय के बाहर ही कचरा, गोबर आदि डाल देते हैं। विद्यालय में कक्षा 1 से 10वीं तक मात्र 210 नामांकन है और पढ़ाने के लिए शिक्षक 15 नियुक्त हैं। इस दौरान सरपंच सांभरिया नरेश चावला, पंचायत समिति के प्रगति प्रसार अधिकारी बाबूलाल मीना व स्थानीय जनप्रतिनिधि भी उनके साथ थे।
पड़ोसी के बोरिंग से बुझा रहे प्यास
हैरानी की बात यह कि हाईवे से सटी तीनों पंचायतें विजयपुरा, बगराना व सुमेल के तीनों माध्यमिक विद्यालयों में छात्र-छात्राओं के लिए पेयजल की कोई व्यवस्था नहीं है। रामावि बगराना में पीएचईडी की ओर से लगाया गया हैण्डपम्प जमीन में धंस गया, जिससे बच्चों को पानी पीने में परेशानी होती है। वहीं रामावि विजयपुरा में पड़ोसी के ट्यूबवैल से पाइप के जरिए पानी लेकर प्यास बुझाई जा रही है। रामावि सुमेल में भी पेयजल की कोई व्यवस्था नहीं है। समस्या से अवगत कराने पर प्रधान ने जिला कलक्टर को लिखने का आश्वासन दिया।
एक कक्ष में तीन कक्षाएं
क्षेत्र की राप्रावि बगराना, रामावि सुमेल एवं रामावि विजयपुरा में कक्षा-कक्षों की कमी है। तीनों विद्यालयों में एक कक्षा-कक्ष में ही दो से तीन कक्षाओं के विद्यार्थी बैठते हैं। ऐसे में  पढ़ाई भी प्रभावित हो रही है।
खेल मैदान नहीं और लगा रखा शारीरिक शिक्षक
रामावि विजयपुरा में शिक्षा विभाग ने शारीरिक शिक्षक तो लगा रखा है, लेकिन कई दशक पुराने अस विद्यालय में खेल मैदान के लिए एक इंच भी जमीन नहीं है। संस्था प्रधान शकुन्तला मीना ने बताया कि इसके लिए भी विभाग को लिखा जा चुका है। प्रधान ने सरपंच शारदा चौधरी को प्रस्ताव लेकर भिजवाने की बात कही।
नहीं मिली पूर्ति, लगाई डांट
प्रधान पुराना बगराना में पंचायत की ओर से मनरेगा के तहत चल रहे ग्रेवल सड़क निर्माण कार्य का निरीक्षण किया तो मौके पर कार्यरत श्रमिकों की उपस्थिति की भी पूर्ति अधूरी मिली। इस पर प्रधान व पंचायत प्रसार अधिकारी ने मेट को डांट लगाते हुए समय पर पूर्ति करने के निर्देश दिए। श्रमिकों ने यहां पेयजल व्यवस्था कराने की मांग की।
बगराना, विजयपुरा व सुमेल पंचायत क्षेत्र के विद्यालयों का निरीक्षण किया तो पेयजल समस्या, साफ-सफाई व खेल मैदान का अभाव समेत कई समस्याएं मिली हैं। इसको लेेकर जिला कलक्टर को लिखा जाएगा।
गणेशनारायण शर्मा, प्रधान, बस्सी

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned