वर्कबुक की मदद से होगी पढ़ाई


स्कूल में होगी पैरेंट्स टीचर्स मीट
शिक्षा विभाग ने जारी किए निर्देश

By: Rakhi Hajela

Published: 22 Sep 2021, 08:13 PM IST


जयपुर
लंबे समय के बाद स्कूल खुले हैं और एक बार फिर ऑफलाइन पढ़ाई का सिलसिला शुरू हो गया है। इतने समय के लर्निंग गेप को पूरा करने के लिए शिक्षा विभाग अब ना केवल छोटी क्लास के स्टूडेंट्स को कलस्टर वर्क बुक देगा बल्कि ब्रिज कोर्स के जरिए पिछली कक्षाओं की पढ़ाई भी उन्हें करवाई जाएगी। साथ ही 29 सितंबर को स्कूलों में पैरेंट्स टीचर मीट भी होगी। जिससे स्कूलों की तरफ से सिलेबस पूरा करने को लेकर की जा रही तैयारियों के बारे में पैरेंट्स भी जान सकें। विभाग ने शिक्षकों को निर्देश दिए हैं कि वह अपने मोबाइल में मिशन ज्ञान एप डाउनलोड करना जरूरी होगा। यह एप विद्यार्थियों को भी मोबाइल में डाउनलोड करना जरूरी होगा।
रेगलुर क्लास के साथ वर्कबुक से भी होगी पढ़ाई
विभाग ने लर्निंग गेप को कम करने के लिए तीसरी से आठवीं तक की कक्षा के विद्यार्थियों के लिए अंग्रेजी, हिंदी और गणित की एक कलस्टर वर्कबुक साथ ही पहली और दूसरी कक्षा की एटग्रेड वर्क बुक तैयार करवाई है, जिसे 27 सितंबर तक स्टूडेंट्स को वितरित करना जरूरी होगा। वर्क बुक में पिछली क्लास की पढ़ाई से जुड़ी सामग्री है। वर्तमान क्लास के साथ ही पिछली 2 क्लास की पढ़ाई के लिए वर्क बुक उपयोग में ली जाएगी। हर सप्ताह रेगुलर क्लास की बुक्स के साथ वर्क बुक की पढ़ाई के लिए भी क्लास तय कर दी गई है। विभाग ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि यदि इसमें लापरवाही बरती गई तो संबंधित पीईईओ और सीबीईओ के विरुद्ध कार्यवाही की जाएगी। 50 फीसदी क्षमता के साथ स्टूडेंट्स स्कूल आएंगे और वह हर विषय की वर्कबुक की दो वर्कशीट सब्जेक्ट टीचर की मदद से सॉल्व करेंगे और घर रहने वाले दिन दो अन्य वर्कशीट होमवर्क के रूप में सॉल्व करेंगे जिससे अगले स्कूल डे वाले दिन टीचर चैक करेंगे।
संशोधित सिलेबस में शामिल होंगे चैप्टर
शिक्षा विभाग ने 30 फीसदी सिलेबस कम करने का निर्णय लिया है। ऐसे में सिलेबस के चैप्टर डिजिटल माध्यम जैसे स्माइल 3.0, शाला दर्शन, शाला दर्पण आदि में भी शामिल किए गए हैं। इतना ही नहीं ऐसे स्टूडेंट्स को स्कूल नहीं आ रहे उनके लिए डिजिटल सब्जेक्ट स्माइल 3.0,आओ घर में सीखे 2.0 के माध्यम से विद्यार्थयों को व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से स्टूडेंट्स तक पहुंचाया जाएगा। नवीं से 12वीं तक के ऐसे स्टूडेंट्स जो स्कूल नहीं आ रहे, उसकी वर्कशीट के आधार पर पोर्टफोलियो का संधारण पूर्व की तरह ही रखा जाएगा।
होगा वीकली क्विज का आयोजन
पहले की तरह ही शनिवार को सप्ताह भर की डिजिटल पढ़ाई के आधार पर वीकली क्विज का आयोजन होगा। 27 सितंबर से पहली से 12वीं तक के सभी स्टूडेंट्स स्कूल आएंगे ऐसे में क्लास टीचर की जिम्मेदारी होगी कि क्विज में अधिक से अधिक स्टूडेंट्स पार्टिसिपेट करें जिससे उनकी आंकलन हो सके।
लिया जाएगा मंथली टेस्ट
पिछले साल की तरह इस साल भी अक्टूबर में सब्जेक्ट के आधार पर मासिक टेस्ट होगा। जिस सब्जेक्ट का कोर्स ऑनलाइन उपलब्ध नहीं होगा उसका टेस्ट क्लास में करवाई गई पढ़ाई के आधार पर लिया जाएगा। नवंबर में होने वाली एनएएस परीक्षा में तीसरी, पांचवीं,आठवीं और दसवीं के स्टूडेंट्स शामिल होंगे।
इनका कहना है,
कोविड के कारण स्कूल लंबे समय तक बंद रहे। ऐसे में पढ़ाई भी कहीं ना कहीं बाधित हुई है। इसी लर्निंग गेप को पूरा करने के लिए वर्कबुक तैयार करवाई गई हैं। इससे उनकी पढ़ाई भी होगी और उनका आकलन भी हो सकेगा।
सौरभ स्वामी, निदेशक,
माध्यमिक शिक्षा।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned