पढ़ाई ताक पर : इस माह सिर्फ नाच-गान और चुनाव

राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद (Rajasthan School Education Council) ने वार्षिकोत्सव (annual festival) की तरह फिर तुगलकी फरमान (Tughlaki decree) जारी किया है। बोर्ड की परीक्षाएं (Board examinations) सिर पर है। इसके बावजूद 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस (Republic Day) कार्यक्रम के साथ सार्वजनिक बाल सभाओं (Public child gatherings) का आयोजन कराने का आदेश दिया गया है।

- शिक्षक चुनाव व गणतंत्र दिवस की तैयारी में उलझे

जयपुर/पाली। राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद (Rajasthan School Education Council) ने वार्षिकोत्सव (annual festival) की तरह फिर तुगलकी फरमान (Tughlaki decree) जारी किया है। बोर्ड की परीक्षाएं (Board examinations) सिर पर है। इसके बावजूद 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस (Republic Day) कार्यक्रम के साथ सार्वजनिक बाल सभाओं (Public child gatherings) का आयोजन कराने का आदेश दिया गया है। इसमें बच्चों के साथ समन्वयक के रूप में जिला, ब्लॉक व पंचायत स्तरीय अधिकारियों को भाग लेना है। आयोजन के बाद प्रत्येक ब्लॉक से तीन श्रेष्ठ बालसभाओं के वीडियो जिला शिक्षा अधिकारी को भेजे जाने है। जिले की पांच श्रेष्ठ बालसभाओं के वीडियो स्कूल शिक्षा परिषद को भेजने है। इन बाल सभाओं में क्या-क्या कार्यक्रम करवाने है। वे भी तय किए गए है। एेसे में अब स्कूल प्रशासन अध्ययन को ताक पर रखकर गणतंत्र दिवस की पीटी व परेड के साथ बच्चों को इन कार्यक्रमों की तैयारी कराने में जुट गए हैं। इधर, पंचायत चुनाव होने के कारण अधिकांश अध्यापक व अधिकारी उसमें नियुक्त है। एेसे में सरकारी स्कूलों की पढ़ाई राम भरोसे हो गई है।

अलग से करवानी पड़ रही तैयारी
गणतंत्र दिवस पर जिला व ब्लॉक स्तर पर कार्यक्रम होते हैं। इनमें पीटी व परेड के साथ झांकियां व अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होते है। जिनकी तैयारी चल रही है। एेसे में अब बालसभा के लिए तय कार्यक्रम के तहत कुछ बच्चों को उनकी तैयारी भी करवानी पड़ रही है।

एक परेशानी को किया कम
पहले यह बालसभाएं सार्वजनिक स्थान पर कराने का आदेश दिया गया था। अब इसमें थोड़ी राहत देते हुए यह तय किया है कि गणतंत्र दिवस के कार्यक्रम के साथ ही बालसभा भी करवा दी जाए। जो स्कूल में ही होगी। इसके बावजूद शिक्षक व संस्था प्रधान इस असमंजस में हैं कि वे ब्लॉक व जिला स्तरीय कार्यक्रम से पहले बालसभा करवाएं या वहां से लौटने के बाद करवाए।

देरी से आया आदेश
सार्वजनिक बालसभा कराने के आदेश में लिखा गया कि यह सभाएं 12 व 25 जनवरी की जगह करानी है, जबकि आदेश दिया 15 जनवरी को दिया। एेसे में कई स्कूल 12 को बालसभा करवा चुके हैं। अब 25 को जरूर स्कूलों में बालसभा नहीं करवाई जाएगी।

अब स्कूल परिसर में कराने के आदेश
पहले बालसभा सार्वजनिक स्थान पर कराने के आदेश थे। अब स्कूल परिसर में करवाने के निर्देश मिले है। यह कार्यक्रम जिला व ब्लॉक स्तरीय कार्यक्रम के बाद करवाया जाएगा।

श्यामसुंदर सोलंकी, मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी, पाली मण्डल
..............................

यह करवाने हैं कार्यक्रम
-झण्डे को सलामी देते हुए मार्च पास्ट करना व सलामी देना, राष्ट्रगीत व गान का गायन
-मेरे भारत में एकता में विविधता थीम पर फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता
-गणतंत्र दिवस आयोजन पर लघु कथा
-मौलिक अधिकार, कर्तव्य, धर्मनिरपेक्षता, समाजवाद व गणतंत्र पर निबंध प्रतियोगिता
-प्री बोर्ड व बोर्ड परीक्षा के शेड्यूल पर प्राचार्य व शिक्षक चर्चा करें
-संविधान के मूल्यों को बरकरार रखने की शपथ लेना

vinod Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned