scriptsubhash chandra bose cm ashok gehot targeted rss bjp pm narendra modi | नेताजी की विचारधारा की बात करें, मूर्ति लगाना दिखावा - गहलोत | Patrika News

नेताजी की विचारधारा की बात करें, मूर्ति लगाना दिखावा - गहलोत

subhash chandra bose jayanti सीएम ने बोस की जयंती पर वर्चुअल कार्यक्रम में लगाया भाजपा-आरएसएस पर निशाना

जयपुर

Updated: January 23, 2022 10:06:59 pm

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर रविवार को आयोजित वर्चुअल कार्यक्रम में भाजपा और आरएसएस पर निशाना साधा। गहलोत ने कहा कि भाजपा-आरएसएस इतिहास को तोड़ना मरोड़ना जानते हैं। इन्होंने अमर जवान ज्योति हटा दी, ये फैसले इसलिए हैं कि पिछली उपलब्धियों को समाप्त कैसे करें। उन्होंने कहा कि नेताजी की मूर्ति लगाना तो दिखावा है, वे उनकी विचारधारा पर बात करें। बोस की विचारधारा वही थी जो कांग्रेस की रही है, लोकतंत्र में भाईचारा, समाजवाद, धर्मनिर्पेक्षता। ये लोग कहते हैं कि 70 साल में देश में कुछ नहीं हुआ, देश जो कुछ भी बना है, वह 7 साल में बना है। गहलोत ने कहा कि इन लोगों के ऊपर
मुझे बड़ा तरस आता है। लेकिन आज भय, हिंसा और तनाव का वातावरण है, मन की बात कोई नहीं कर सकता। भाजपा-आरएसएस के लोग अपराध बोध से ग्रस्त हैं। आजादी में इनका कोई योगदान नहीं है। धर्म-जाति के आधार पर राजनीति करते हैं। इस अवसर पर शिक्षा मंत्री बीडी कल्ला ने भी सम्बोधित किया।
नेताजी की विचारधारा की बात करें, मूर्ति लगाना दिखावा - गहलोत
नेताजी की विचारधारा की बात करें, मूर्ति लगाना दिखावा - गहलोत
गोडसे की मूर्ति लगाने व पूजा करने लगे

गहलोत ने कहा कि भाजपा-आरएसएस के लोगों ने कभी महात्मा गांधी को स्वीकार नहीं किया, अब भले ही गांधी की बातें करते हैं। ये लोग नाथूराम गोडसे की मूर्तियां लगाने लग गए और पूजा करने लगे हैं। इन्हें क्या हक के देश और उसके युवाओं को गुमराह करने का।
आरएसएस मुख्यालय पर तिरंगा नहीं लगाते

मुख्यमंत्री ने कहा कि नेहरू-इंदिरा को जय हिंद बोलते हुए देखा और हर कांग्रेस नेता जय हिंद बोलता है। मन में गर्व की अनुभूति होती है। लेकिन आरएसएस वाले क्या बोलते हैं? ये तिरंगा झंडा नहीं लगते अपने नागपुर स्थित मुख्यालय पर। ये लोग तिरंगे झंडे को स्वीकार नहीं करते थे, अब जाकर मानने लग गए।
लोकतंत्र में टॉलिरेंस पॉवर चाहिए, लेकिन...

गहलोत ने कहा कि लोकतंत्र में सबसे अधिक टॉलिरेंस पॉवर चाहिए। आलोचना करने वालों को भी ध्यान से सुनें। आज असहमति व्यक्त करने वाले देशद्रोही बन जाते हैं। भाजपा-आरएसस के लोग किस्से कहानियां कहते हैं कि गांधी-नेहरू से बोस-वल्लभभाई पटेल विचार नहीं मिलते थे। ये नहीं बताते कि नेहरू हमेशा बोस के यहां रुकते थे, उनके लगातार बातें करते थे और दोनों एक दूसरे की सुनते भी थे। उनके बीच विचारों का मतभेद था, लेकिन मनभेद कभी नहीं रहा। नेहरू जब जेल में थे, तो बोस ने कमला नेहरू को जर्मनी ले जाकर उनका इलाज करवाया। राष्ट्रपिता तक की उपाधि बोस ने ही दी थी। विचार अलग, रास्ते अलग थे, लेकिन उद्देश्य एक ही था।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

बुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंमान्यता- इस एक मंत्र के हर अक्षर में छुपा है ऐश्वर्य, समृद्धि और निरोगी काया प्राप्ति का राजराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाVeer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

Drone Festival: दिल्ली के प्रगति मैदान में भारत के सबसे बड़े ड्रोन फेस्टीवल का उद्घाटन करेंगे पीएम मोदीपाकिस्तान में 30 रुपए महंगा हुआ पेट्रोल-डीजल, Pak सरकार को घेरते हुए इमरान खान ने की मोदी की तारीफअजमेर शरीफ दरगाह में मंदिर होने के दावे के बाद बढ़ाई गई सुरक्षा, पुलिस बल तैनातपहली बार हिंदी लेखिका को मिला अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार, एक मॉं की पाकिस्तान यात्रा पर आधारित है उपन्यासजम्मू कश्मीर: टीवी कलाकार अमरीन भट की हत्या का 24 घंटे में लिया बदला, तीन दिन में सुरक्षा बलों ने मारे 10 आतंकीमहरौली में गैस पाइपलाइन में लीकेज के बाद जोरदार धमाका लगी आग, एक घायलमानसून ने अब तक नहीं दी दस्तक, हो सकती है देरखिलाड़ियों को भगाकर स्टेडियम में कुत्ता घुमाने वाले IAS अधिकारी का ट्रांसफर, पति लद्दाख तो पत्नी को भेजा अरुणाचल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.