निलम्बित महापौर सौम्या व चार पार्षदों के घर नोटिस चस्पा, पुलिस ने फिर से पेश किया चालान

महापौर और पार्षदों के आवास पर नोटिस किए चस्पा, मंगलवार को जल्दबाजी में दस दिन में पेश आधा अधूरा चालान कोर्ट ने लौटा दिया था, निगम आयुक्त द्वारा दर्ज एफआइआर का मामला

By: pushpendra shekhawat

Published: 30 Jun 2021, 09:44 PM IST

जयपुर। ग्रेटर नगर निगम आयुक्त यज्ञमित्र देव सिंह की ओर से दर्ज एफआइआर में ज्योति नगर थानाधिकारी ने अपनी गलती सुधारी। मामले में आरोपी निलम्बित महापौर और चार पार्षदों के घरों पर नोटिस चस्पा किया और कमियां सुधारते हुए अदालत में बुधवार को दुबारा चालान पेश कर दिया। अदालत ने खामियां गिनाते हुए मंगलवार को ही चालान लौटा दिया था।

अदालत ने माना था कि चालान पेश करने से पहले आरोपी पक्ष को दिए जाने वाले नोटिस फाइल पर नहीं थे। दुबारा पेश फाइल में पुलिस ने कहा कि आरोपियों ने नोटिस लेने से इनकार कर दिया। इसपर पुलिस ने फाइल में निलम्बित महापौर सौम्या गुर्जर और पार्षद अजय चौहान, पारस जैन, शंकर शर्मा और रामकिशोर प्रजापत के घर नोटिस चस्पा किए। इनकी फोटो चालान फाइल में शामिल की गई हैै।


अब फाइल पर गुरुवार को कार्यालय रिपोर्ट होने के बाद चालान को कोर्ट के सामने रखा जाएगा। गौरतलब है कि मंगलवार को एमएम-8 जयपुर महानगर प्रथम ने चालान अधूरा मानते हुए लौटा दिया था। ज्योति नगर थाना पुलिस ने निगम आयुक्त की ओर से दर्ज एफआइआर में तफ्तीश पूरी कर दस दिन में १४ जून को चालान पेश किया था।

यह था मामला

नगर निगम ग्रेटर की महापौर सौम्या गुर्जर ने कार्यालय में सफाई के मुद्दे पर 4 जून को बैठक हुई थी। निगम आयुक्त यज्ञमित्र देव सिंह ने महापौर और कुछ पार्षदों पर मारपीट और काम में बाधा पहुंचाने के आरोप लगाते हुए एफआइआर कराई थी। पुलिस ने महापौर व चार पार्षदों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 323, 341, 353 और 332 में आरोप साबित माने हैं।

pushpendra shekhawat Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned