script स्वच्छ सर्वेक्षण सिर पर...मैकेनाइज्ड स्वीपिंग की फाइल एक माह से स्वास्थ्य शाखा में अटकी | swachch bharat mission mechanized sweeping fail jaipur greater nigam | Patrika News

स्वच्छ सर्वेक्षण सिर पर...मैकेनाइज्ड स्वीपिंग की फाइल एक माह से स्वास्थ्य शाखा में अटकी

locationजयपुरPublished: Dec 19, 2023 11:43:11 am

Submitted by:

Ashwani Kumar

नए टेंडर का समय नहीं बचा, पुरानी फर्म के काम को आगे बढ़ाने की तैयारी

 

स्वच्छ सर्वेक्षण सिर पर...मैकेनाइज्ड स्वीपिंग की फाइल एक माह से स्वास्थ्य शाखा में अटकी
स्वच्छ सर्वेक्षण सिर पर...मैकेनाइज्ड स्वीपिंग की फाइल एक माह से स्वास्थ्य शाखा में अटकी

ग्रेटर नगर निगम में मैकेनाइज्ड स्वीपिंग के नाम पर चहेतों को फायदा देने की तैयारी की जा रही है। क्योंकि, नए टेंडर का समय नहीं बचा है। जो कम्पनी अभी निगम में मैकेनाइज्ड स्वीपिंग का काम कर रही है, उसका कार्यादेश 10 जनवरी को खत्म हो रहा है। अब तक ग्रेटर निगम ने नए टेंडर की प्रक्रिया शुरू नहीं की है। सूत्रों की मानें तो निगम के अधिकारी नया टेंडर करने की बजाय पुरानी फर्म के काम को ही आगे बढ़ाना चाहते हैं। तभी तो एक माह से फाइल स्वास्थ्य शाखा कार्यालय में लम्बित है।

यों समझें सफाई में खेल
-ग्रेटर निगम में दो रोड माउंटेन स्वीपर किराए पर चल रहे हैं। प्रति किमी 840 रुपए किराया निर्धारित है। एक रोड स्वीपर प्रतिदिन 80 किमी चलता है।
-निगम कोष से प्रति माह इन दोनों माउंटेन स्वीपर का 40 लाख रुपए किराया जाता है।

काम के नाम पर खानापूर्ति
नियमों में तो इन माउंटेन स्वीपर को दिन में आठ घंटे और रात में आठ घंटे सड़कें साफ करनी होती हैं। लेकिन, दिन में यातायात की वजह से माउंटेन स्वीपर कभी कभार ही दिखते हैं और रात में भी सड़कों की सफाई के नाम पर खानापूर्ति ही नजर आती है।


विरोध के बाद भी अधिकारियों ने की मनमानी
-14 फरवरी, 2022: वित्त समिति की बैठक में मैकेनाइज्ड स्वीपिंग के दो प्रस्ताव आए। इनका सदस्यों ने विरोध किया था। सदस्यों ने इस व्यवस्था को महंगा बताया था। लेकिन, कोई सुनवाई नहीं हुई।


बढ़ता चला गया खर्चा, सड़कें गंदी
मैकेनाइज्ड स्वीपिंग में गड़बड़झाला किसी से छिपा नहीं है। वर्ष 2017 में एमडी जोन और सांगानेर जोन में मैकेनाइज्ड स्वीपिंग का कार्यादेश 4.95 लाख रुपए प्रतिमाह का दिया। अब प्रतिमाह सफाई पर 20.16 लाख रुपए प्रति माह खर्च हो रहे हैं।


मैकेनाइज्ड स्वीपिंग का कार्यादेश 10 जनवरी को खत्म होगा। एक महीने पहले ही नए टेंडर को लेकर फाइल स्वास्थ्य शाखा को भेज दी है। आगे की प्रक्रिया वहीं से होगी।
-अतुल शर्मा, उपायुक्त, गैराज शाखा


हाल ही स्वास्थ्य शाखा की जिम्मेदारी मिली है। अभी रिव्यू नहीं कर पाया हूं। यदि फाइल स्वास्थ्य शाखा में लम्बित है तो उसका जल्द निस्तारण किया जाएगा।
-नवीन भारद्वाज, उपायुक्त, स्वास्थ्य शाखा

ट्रेंडिंग वीडियो