अब Chinese 'राइज लाइट' को टक्कर देगी सेवा भारती की 'स्वदेशी झालर'

सोशल कनेक्ट: सेवा से स्वावलंबन में जुटी सेवा भारती, चीनी 'राइज लाइट' को टक्कर देगी सेवा भारती की 'स्वदेशी झालर'

By: nakul

Published: 16 Oct 2020, 11:30 AM IST

शैलेंद्र शर्मा/ जयपुर।

सेवा के साथ अगर स्वावलंबन भी जुड़ जाए तो ना सिर्फ देश में क्रांतिकारी बदलाव हो सकते हैं, बल्कि रोजगार की समस्या से भी काफी हद तक नियंत्रण किया जा सकता है। कुछ ऐसा ही प्रयास पिछले कुछ सालों से कर रहा हैं राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ का प्रकल्प सेवा भारती। शिक्षा, स्वास्थ्य स्वावलंबन के साथ-साथ समरसता का उदृेश्य लेकर सेवा भारती लगातार अपने काम में जुटी हुई है।

दीवाली समेत अन्य समारोह व आयोजनो में काम में ली जा रही चीनी राइज लाइट्स को टक्कर देने के लिए सेवा भारती के कौशल विकास केंद्र में स्वदेशी 'झालर' का निर्माण किया जा रहा है। जयपुर में 22 गोदाम के पास सहकार भवन के पीछे बने एक भवन में सेवा भारती का एक केंद्र संचालित किया जा रहा है, जहां एक ही भवन में कई सारे कार्य संचालित किए जा रहे है।

स्वदेशी इलेक्ट्रोनिक्स झालरों का निर्माण
सेवा भारती के इस केंद्र पर कच्ची बस्तियों के बेरोजगार युवक—युवतियों को स्वदेशी झालरों को बनाने का प्रशिक्षण दिया जा रहा हैं। इसके बाद उनको घर के लिए कच्चा माल दे दिया जाता है, जहां वह परिवार के अन्य सदस्यों को भी प्रशिक्षण देकर रोजगार प्राप्त कर पा रहे हैं। वर्तमान में जयपुर में करीब 50 से भी अधिक परिवार इस सेवा का लाभ ले रहे है। इसके अलावा यहां से प्रशिक्षण लेकर प्रदेश के अलवर, भरतपुर, सीकर, चूरू, सवाईमाधोपुर कोटा और जयपुर के सांगानेर में इस तरह का काम शुरू हो गया हैं।



पैथोलॉजी लैब—
सेवा सदन के प्रथम तल पर सेवा भारती की ओर से एक डायग्नोस्टिक सेंटर संचालित किया जा रहा है, जहां न्यूनतम दरों पर सभी प्रकार की खून की जांचें, ईसीजी, डिजिटल एक्सरे, सोनोग्राफी सहित अन्य जांचे होती है। इसके अलावा यहां पर चिकित्सकों की परामर्श सेवाएं भी उपलब्ध हैं। यहां महज 50 रुपए में परिवार स्वास्थ्य कार्ड योजना भी शुरू की गई है, जिसमें परिवार के आठ सदस्यों को जोड़ा जा सकता है।

कौशल विकास केंद्र
रोजगारपरक शिक्षा के लिए निशुल्क कम्प्यूटर कोर्स कराया जा रहा है जिसमें बेसिक, टेली, जीएसटी डीटीपी के कोर्स कराए जा रहे हैं। इलेक्ट्रोनिक्स का प्रशिक्षण जिससे घरेलू इलेक्टिशियन के तौर पर अपना स्वंय का रोजगार शुरू किया जा सकता है। व्यक्तित्व विकास के लिए स्पोकन इंग्लिश का कोर्स करवाया जा रहा है। महिलाओं को स्वावलंबी बनाने के लिए फैशन डिजाइनिंग और सिलाई का प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

नि:शुल्क ई—मित्र का संचालन
आधार कार्ड, पैन कार्ड से लेकर वृद्धावस्था पेंशन के अलावा तमाम सरकारी सुविधाओं का लाभ आम आदमी तक पहुंचाने के उदृदेश्य से ई—मित्र का संचालन किया जा रहा हैं। जहां लाभ नहीं कमाने नहीं तय सरकारी सेवा शुल्क लिया जाता हैं। जिससे वंचितों को लाभ मिल सकें। दो महीने पहले ही शुरू हुए इस ई—मित्र पर अभी तक 500 से भी अधिक लोग लाभान्वित हो चुके हैं।

'सेवा भारती अपने समाज के अभावग्रस्त, निर्धन, वंचित, उपेक्षित, पीड़ित बंधुओं की सेवा के लिए विभिन्न प्रकार के छोटे—बड़े प्रकल्प की गतिविधियां संचालित कर रही हैं।' - गिरधारी लाल शर्मा, प्रान्त मंत्री, सेवा भारती समिति राजस्थान

'सेवा भारती की ओर से संचालित कौशल विकास केंद्र के माध्यम से हमारी बस्ती में लाइट बनाने का काम शुरू हुआ था। जिससे हमारी बस्ती को रोजगार मिलने लगा हैं।' - रेखा, लाभार्थी

nakul Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned