जनजाति, सहरिया समुदाय के विद्यार्थियों को टीएडी सुपर-30 की सौगात

जनजाति एवं सहरिया समुदाय ( Tribe and Sahariya community ) के विधार्थियों को टीएडी सुपर-30’’ प्रोजेक्ट के तहत प्रतिष्ठित कोचिगं संस्थाओं के माध्यम से ऑन-लाईन प्री कोचिगं दी जाएगी

By: Ashish

Updated: 16 Sep 2020, 05:06 PM IST

जयपुर

Tribe and Sahariya community : जनजाति एवं सहरिया समुदाय ( Tribe and Sahariya community ) के विधार्थियों को टीएडी सुपर-30’’ प्रोजेक्ट के तहत प्रतिष्ठित कोचिगं संस्थाओं के माध्यम से ऑन-लाईन प्री कोचिगं दी जाएगी ताकि इन्हें प्रशासनिक सेवाओं में चयन में मदद मिल सके। जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग मंत्री अर्जुन सिंह बामनिया ( Tribal Regional Development Department Minister Arjun Singh Bamnia ) ने बताया कि प्रोजेक्ट के तहत जनजाति एवं सहरिया समुदाय के ऐसे 30 विधार्थियों को प्राथमिकता दी जाएगी, जिन्होंने न्यूनतम स्नातक परीक्षा उतीर्ण की हो। उनके पास अनुसूचित जनजाति का प्रमाण-पत्र हो। स्नातक परीक्षा में 60 फीसदी अंक होने के साथ ही ऑन-लाईन कोचिगं के लिए वांछित उपकरण सुविधा हो। साथ ही अभ्यर्थी के अभिभावक आयकरदाता नहीं हों।

मंत्री बामनिया ने बताया कि ’’टीएडी सुपर-30’’ प्रोजेक्ट की शुरूआत पन्द्रहवीं विधान सभा के चौथे सत्र में उनकी ओर से जनजाति के विधार्थियों को यूपीएससी और आरपीएससी में चयन के लिये कोचिगं करवाए जाने के आश्वासन के तहत की जा रही है। इस प्रोजेक्ट के तहत 20 छात्र और 10 छात्राओं को राजस्थान प्रशासनिक सेवा के लिए आरएएस ऑन-लाईन प्री कोचिगं दी जाएगी। तैयारी के इच्छुक ऐसे अभ्यर्थियों को आरपीएससी की ओर से निर्धारित आयु पूर्ण करना जरूरी होगा । ऐसे अभ्यर्थियों का चयन विभाग द्वारा गठित एक कमेटी के जरिए किया जाएगा। अभ्यर्थियों का चयन शैक्षणिक योग्यता और साक्षात्कार के अंक अनुसार चयनित होने पर मेरिट के आधार पर किया जाएगा। साथ ही कोचिगं के इच्छुक विधार्थियों के लिए ईओआई के माध्यम से राज्य की प्रतिष्ठित संस्थाओं का चयन किया जाएगा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned