Teacher's Transfer : सवा दो लाख शिक्षकों को करना होगा इंतजार


तृतीय श्रेणी शिक्षकों के स्थानांतरण नहीं होंगे, लगा रहेगा प्रतिबंध
शिक्षा मंत्री ने कहा, शिक्षकों को ऑनलाइन देने होंगे आवेदन
अन्य शिक्षकों और कर्मचारियों के होंगे तबादले

By: Rakhi Hajela

Updated: 16 Sep 2020, 09:14 PM IST

राज्य सरकार ने भले ही तबादलों पर से रोक हटा दी हो लेकिन प्रदेश के सवा दो लाख थर्ड ग्रेड शिक्षकों को अभी तबादलों के लिए इंतजार करना होगा। इन शिक्षकों के तबादले अभी नहीं होंगे। संभावना है कि पंचायत चुनावों के बाद थर्ड ग्रेड शिक्षक की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। शिक्षा राज्य मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा का कहना है थर्ड ग्रेड शिक्षकों के तबादले फिलहाल नहीं किए जाएंगे। उनका कहना था कि अन्य शिक्षकों के लिए तबादला प्रक्रिया शुरू कर दी गई है शिक्षकों को शाला दर्पण पोर्टल पर स्टाफ लॉगिन तबादलों के लिए आवेदन करना होगा, आवेदन की प्रक्रिया घोषित कर दी गई है। उन्होंने कहा कि ऑफलाइन आवेदन किसी भी स्थिति में स्वीकार नहीं किए जाएंगे, शिक्षक केवल ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे।

यह रहेगा तबादलों का शेड्यूल
प्रधानाध्यापक और प्रधानाचार्य : 17 सितंबर दोपहर 2.00 बजे से 21 सितंबर रात 12.00 बजे तक
व्याख्याता : 22 सितंबर सुबह 10.00 से 25 सितंबर रात 12.00 बजे तक
वरिष्ठ अध्यापक द्वितीय श्रेणी : 5 अक्टूबर सुबह 10.00 बजे से 9 अक्टूबर रात 12.00 बजे तक

बीजेपी सरकार में हुए थे तबादले
शिक्षा विभाग में गत वर्ष सितंबर महीने में करीब आठ हजार शिक्षकों के तबादले किए गए थे, लेकिन उनमें थर्ड ग्रेड शिक्षक शामिल नहीं थे। आपको बता दें कि थर्ड ग्रेड शिक्षकों के तबादले बीजेपी सरकार के समय तीन साल पूर्व किए गए थे। उसके बाद से तृतीय श्रेणी शिक्षक तबादलों का इंतजार कर रहे थे। शिक्षा विभाग के अधिकारी, प्राचार्य, व्याख्याता, वरिष्ठ अध्यापक और विभाग के मंत्रालयिक कर्मचारी तथा चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों तक के तबादले किए जा सकेंगे।

तबादलों में छूट दिए जाने की मांग
राजस्थान प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षक संघ ने सरकार की ओर से तबादलों पर लगा बैन हटाए जाने का स्वागत किया है, साथ ही थर्ड ग्रेड शिक्षकों के तबादले किए जाने की मांग की है। संघ के प्रदेशाध्यक्ष शशिभूषण शर्मा और प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष विपिन शर्मा ने कहा कि थर्ड ग्रेड के करीब सवा दो लाख शिक्षकों के स्थानांतरण खोले जाएं तथा टीएसपी क्षेत्र के शिक्षकों के स्थानांतरण भी साथ में खोले जाएं, ताकि शिक्षकों को कई वर्षों बाद अपने घर पहुंचने की आस हो सके।
शिक्षा विभाग में कुल चार लाख पच्चीस हजार कार्मिक हैं, ऐसे में करीब सवा दो लाख शिक्षकों के स्थानांतरण होने से शिक्षक वंचित हो जाएंगे। उनका कहना था कि इस संबंध में शीघ्र ही मुख्यमंत्री और शिक्षामंत्री को ज्ञापन दिया जाएगा।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned