वेस्टइंडीज में दुव्र्यवहार मामले में फंसे भारतीय टीम मैनेजर, स्वदेश लौटेंगे

कैरिबिया में विज्ञापन की शूटिंग की जानकारी देने के मामले में मैनेजर सुनील सुब्रमण्यम ने भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों को नहीं दी तवज्जो

By: satish

Published: 14 Aug 2019, 04:30 PM IST

New DelhiWestindies में दुव्र्यवहार मामले में फंसे Team India Manager सुनील सुब्रमण्यम को स्वदेश लौटने के लिए कहा गया है। सुबामण्यम को दिसंबर 2018 में आस्ट्रेलिया के पर्थ टेस्ट के दौरान अपने खराब के व्यवहार के कारण आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था। हालांकि वह वहां बाद में बच गए थे। र्ड के एक अधिकारी ने एजेंसी से बातचीत में कहा कि अब यह देखना काफी दिलचस्प होगा कि अब उन्हें मैनेजर पद के लिए चुनाव लडऩे पर भी रोक लगा दिया गया है। उन्होंने कहा, हां, एक-दूसरे को मेल मिला है और जब उन्होंने कहा कि यह गलती से हुआ है तो शीर्ष अधिकारियों ने उन्हें स्पष्ट कर दिया है कि उन्हें वापस स्वदेश लौटने की जरूरत है। ऐसे में जब आप देश के प्रतिनिधि हैं तो तनाव का हवाला देना वास्तव में ठीक नहीं है। अधिकारी ने कहा, मैनेजर की भूमिका के लिए यह देखना जरूरी है कि क्या उन्हें इसकी इजाजत दी जाएगी या उन्हें इस पद से हटाया जाएगा। यह इस चीज पर निर्भर करता है कि उनके स्वदेश लौटने के बाद अधिकारी उनके तर्क को किस तरह से लेते हैं। लेकिन यह पहली बार नहीं है जब यह भारतीय टीम मैनेजर के रूप में उनके खिलाफ दुव्र्यवहार की बात आई है।
पहले की हरकतों को नजरअंदाज किया
भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने दो उच्चायोग को कहा था कि caribbean में जिस विज्ञापन को फिल्माना है, उसके लिए वह टीम के मैनेजर सुब्रमण्यम से संपर्क करें, लेकिन जब trinidad and tobago में मौजूद Indian Embassy के अधिकारियों ने सुब्रमण्यम से संपर्क किया तो उन्होंने अधिकारियों को तवज्जो नहीं दी। इससे पहले बीसीसीआई के एक कार्यकारी ने कहा था कि पहले इस तरह की हरकतों को नजरअंदाज किया गया। इसी कारण यह स्थिति बनी है। उन्होंने कहा कि अगर बात उच्चायोग की नहीं होती और सीओए के मुखिया विनोद राय पर आंच नहीं आती तो इस बार भी इस घटना को नजरअंदाज किया जाता। उन्होंने कहा, "पहले इस तरह की हरकतें हुई थीं, लेकिन उन्हें नजरअंदाज किया गया। इसी कारण उनका हौसला बढ़ा है। अब क्योंकि राय तक बात आ गई है तो कार्रवाई की जा सकती है।" विश्व कप के दौरान भी बोर्ड के अधिकारी उनके व्यवहार से खुश नहीं थे।

satish Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned