दूरसंचार कंपनियों को मिली बड़ी राहत

नई दिल्ली। सरकार ने टेलीकॉम उद्योग को स्पेक्ट्रम शुल्क के भुगतान में दो वर्षो की राहत देने का फैसला किया है। इसके तहत टेलीकॉम कंपनियों को 2020-21 और 2021-22 के बकाया स्पेक्ट्रम शुल्क का भुगतान बाकी वर्षो में बराबर किस्तों में करने की छूट दी गई है। इससे उद्योग फिलहाल तत्काल 42 हजार करोड़ रुपए की अदायगी से बच गया है। सरकार के इस फैसले से पैसों के संकट से जूझ रही दूरसंचार कंपनियों को राहत मिली है।

वित्तमंत्री ने कहा कि टेलीकॉम कंपनियों के लिए स्पेक्ट्रम शुल्क के भुगतान की कुल अवधि नहीं बढ़ाई गई है। बल्कि दो वर्षो का बकाया बाकी वर्षो के दौरान बराबर किस्तों में करने की छूट दी गई है। लेकिन टेलीकॉम कंपनियों को दो वर्ष की इस स्थगित अवधि का ब्याज देना पड़ेगा। उसमें कोई छूट नहीं दी गई है। अर्थात उन्हें ब्याज अदा करना होगा। ताकि शुद्ध देय राशि ज्यों की त्यों रहे। जो टेलीकॉम कंपनियां स्पेक्ट्रम फीस के भुगतान में दो वर्ष की छूट चाहती हैं उन्हें सीधी छूट नहीं मिलेगी। परंतु यदि वे चाहें तो भुगतान के एवज में किस्तों के बराबर बैंक गारंटी दे सकती हैं।
आपको बता दे की टेलीकॉम उद्योग के संगठन सेल्यूलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने स्पेक्ट्रम शुल्क के पेमेंट के लिए तीन साल का समय मांगा था। सीओएआई के महानिदेशक राजन मैथ्यूज ने कहा था कि ऑपरेटरों को बड़ी राहत की जरूरत है।
टेलीकॉम उद्योग को वित्तीय संकट से उबारने के लिए केंद्रीय कैबिनेट ने भले ही थोड़ी राहत की घोषणा कर दी है, लेकिन संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने लोकसभा में स्पष्ट किया कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया तथा अन्य टेलीकॉम कंपनियों पर लगभग डेढ़ लाख करोड़ रुपए के सरकारी बकायों की देनदारी बनती है, जिसका भुगतान उन्हें करना ही होगा। इसके ब्याज और जुर्माने में किसी प्रकार की छूट देने का फिलहाल सरकार के समक्ष कोई प्रस्ताव नहीं हैं।
टेलीकॉम कंपनियों के बकाये में 92,642 करोड़ रुपए लाइसेंस फीस के तथा 55,054 करोड़ रुपए स्पेक्ट्रम यूजेज चार्जेज (एसयूसी) के शामिल हैं। इन देनदारियों का आकलन सुप्रीमकोर्ट के इस फैसले के आधार पर किया गया है कि एजीआर में गैर-टेलीकॉम राजस्व को भी शामिल माना जाएगा। एजीआर के आंकड़ों को अंतिम रूप दिए जाने के बाद इस राशि का नए सिरे से निर्धारण किया जाएगा।
सरकार ने टेलीकॉम कंपनियों से सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक भुगतान करने तथा जरूरी कागजात जमा करने को कहा है। सुप्रीम कोर्ट के 24 अक्टूबर के फैसले के बाद भारती एयरटेल पर तकरीबन 35,586 करोड़ रुपए की देनदारी बनती है। इसमें 21,682 करोड़ रुपए लाइसेंस फीस, जबकि 13,904 करोड़ रुपए एसयूसी का बकाया शामिल है। इसमें टेलीनॉर और टाटा टेली सर्विसेज के बकाया शामिल नहीं हैं।
दूसरी ओर वोडाफोन आइडिया पर कुल 53,038 करोड़ रुपए की देनदारी बनती है। जिसमें 28,309 करोड़ लाइसेंस फीस और 24,729 करोड़ रुपए एसयूसी का बकाया शामिल है। इसी प्रकार रिलायंस कम्यूनिकेशंस लिमिटेड तथा रिलायंस टेलीकम्यूनिकेशंस पर 16,457 करोड़ की लाइसेंस फीस व 4683.78 करोड़ का एसयूसी बकाया है। कुल मिलाकर 15 कंपनियों पर लाइसेंस फीस और 20 कंपनियों पर एसयूसी की देनदारी है।

Narendra Kumar Solanki
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned