scriptTen years imprisonment for raping minor | नाबालिग से बलात्कार के दोषी को 10 साल की सजा | Patrika News

नाबालिग से बलात्कार के दोषी को 10 साल की सजा

24 जनवरी 2017 की शाम को गांव जटियाणा निवासी सहरुन पुत्र फत्तू खां उसकी 16 वर्षीय नवासी को बहला-फुसलाकर ले गया। पुलिस ने घटना के सम्बन्ध में अपहरण, बलात्कार और पोक्सो एक्ट की धाराओं में मामला दर्ज करते हुए आरोपी को गिरफ्तार किया।

जयपुर

Published: July 28, 2022 12:10:32 am

जयपुर। अलवर के विशिष्ट न्यायालय (पोक्सो एक्ट संख्या-2) के न्यायाधीश राजवीर सिंह ने बुधवार को नाबालिग से बलात्कार के मामले में अभियुक्त को दस साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई।

विशिष्ट लोक अभियोजक अशोक कुमार सैनी ने बताया कि जिले के ग्रामीण क्षेत्र निवासी एक व्यक्ति ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि 24 जनवरी 2017 की शाम को गांव जटियाणा निवासी सहरुन पुत्र फत्तू खां उसकी 16 वर्षीय नवासी को बहला-फुसलाकर ले गया। पुलिस ने घटना के सम्बन्ध में अपहरण, बलात्कार और पोक्सो एक्ट की धाराओं में मामला दर्ज करते हुए आरोपी को गिरफ्तार किया। साथ ही उसके खिलाफ न्यायालय में चालान पेश किया। प्रकरण में न्यायाधीश ने बुधवार को अभियुक्त सहरुन को दस साल के कठोर कारावास और और 18 हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है।
नाबालिग से बलात्कार के दोषी को 10 साल की सजा
नाबालिग से बलात्कार के दोषी को 10 साल की सजा
नाबालिग से दुराचार के अभियुक्त को 20 वर्ष का कारावास, 23 हजार रुपए जुर्माना

अजमेर में नाबालिग से दुराचार करने के एक मामले में अभियुक्त किशन को पोक्सो अदालत ने 20 वर्ष के कारावास व 23 हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई। आरोपी के खिलाफ परिवादी ने 23 जुलाई 2020 को एक थाने में रिपोर्ट लिखाई। इसमें बताया कि अभियुक्त ने परिवादी की नाबालिग पुत्री को बहला फुसला कर गलत काम किया। पीडि़ता के अश्लील फोटो खींचने व ब्लैकमेल करने का आरोप भी रिपोर्ट में लगाया गया। पुलिस ने मामला दर्ज कर चालान पेश किया। अभियोजन पक्ष की ओर से सरकारी वकील रुपेन्द्र परिहार ने 11 गवाह व 23 दस्तावेज पेश किए। पीडि़ता के शरीर पर चोट के निशान व उसकी आयु 15 वर्ष से कम पाई गई। अदालत ने माना कि 23 जून से 11 जुलाई तक कुल 44 बार पीडि़ता व अभियुक्त के बीच वार्ता हुई।
अदालत ने फैसले में लिखा कि नाबालिग लड़की को बहला फुसला कर उसके विधिक संरक्षक की अनुमति बगैर व पीडि़ता की सहमति बिना शारीरिक संबंध स्थापित किया। ऐसे में नरमी का रुख नहीं अपनाया जा सकता। देश में बालिकाओं के साथ यौन अपराध की घटनाएं बढ़ रही हैं। उसे देखते हुए आरोपित को कठोर दंड दिया जाना न्यायोचित है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Gujarat News: जामनगर के होटल में लगी भयानक आग, स्टाफ सहित 27 लोग थे मौजूद, सभी सुरक्षितत्रिपुरा कांग्रेस विधायक सुदीप रॉय बर्मन पर जानलेवा हमला, गंभीर रूप से हुए घायलबांदा में यमुना नदी में डूबी नाव, 20 के डूबने की आशंकाCM अरविंद केजरीवाल ने किया सवाल- 'मनरेगा, किसान, जवान… किसी के लिए पैसा नहीं, कहां गया केंद्र सरकार का धन'SCO समिट में पीएम मोदी के साथ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की हो सकती है बैठकबिहारः 16 अगस्त को महागठबंधन सरकार का कैबिनेट विस्तार, 24 को फ्लोर टेस्ट, सुशील मोदी के दावे को नीतीश ने बताया बोगसझारखंड BJP ने बिहार के नए उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को गिफ्ट में भेजा पेन, कहा - '10 लाख नौकरी देने वाली फाइल पर इससे करें हस्ताक्षर'Karnataka High Court: एक्सीडेंट में माता-पिता की मौत होने पर विवाहित बेटियां भी मुआवजे की हकदार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.