पाठ्यक्रम पर उठे विवाद पर बोर्ड ने साफ की स्थिति , समिति से मांगी तथ्यात्मक रिपोर्ट

राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ( Rajasthan Board of Secondary Education ) ने शिक्षा सत्र 2020-21 के लिए कक्षा 10 और कक्षा 12 के लिए पाठ्यपुस्तकों में ( textbooks for class 10 and class 12 ) कोई परिवर्तन नहीं किया है।

By: Ashish

Published: 26 Jun 2020, 06:00 PM IST

जयपुर/अजमेर
Rajasthan Board of Secondary Education : राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ( Rajasthan Board of Secondary Education ) ने शिक्षा सत्र 2020-21 के लिए कक्षा 10 और कक्षा 12 के लिए पाठ्यपुस्तकों में ( textbooks for class 10 and class 12 ) कोई परिवर्तन नहीं किया है। नवीन सत्र में कक्षा 9 और कक्षा 11 में एनसीईआरटी ( NCERT syllabus ) का पाठ्यक्रम लागू किया जा रहा है। ये पाठ्यपुस्तकें प्रदेश के विद्यार्थियों के लिए राजस्थान राज्य पाठ्यपुस्तक मण्डल से प्रकाशित की जा रहीं है। बोर्ड के अध्यक्ष डॉ. डी.पी. जारोली ने बताया कि गत शिक्षा सत्र में राज्य सरकार ने शिक्षाविद् डॉ. बी.एम. शर्मा के संयोजन ने गठित चार सदस्यीय राज्य स्तरीय पाठ्यपुस्तक पुनरीक्षण (कक्षा-9 से कक्षा -12) समिति ने पाठ्यपुस्तकों में पिछले साल फरवरी में आंशिक संशोधन किये थे। संशोधित पुस्तकों को गत शिक्षा सत्र 2019-20 में लागू किया गया। पिछले साल किसी भी शिक्षाविद् ने पाठ्यक्रम को लेकर कोई आपत्ति नहीं की।

बोर्ड पाठ्यक्रम में प्रदेश के शूरवीर, यशस्वी महाराणा प्रताप को लेकर गत वर्ष विधानसभा में कई प्रश्न पूछे गए, जिनका शिक्षा मंत्री ने उत्तर दिया। बोर्ड अध्यक्ष का कहना है कि पिछले सप्ताह मीडिया में आए समाचारों के अनुसार कुछ शिक्षाविदों ने कहा है कि बोर्ड पाठ्यक्रम में परिवर्तन कर महाराणा प्रताप के व्यक्तित्व को छोटा दर्शाने की कोशिश की गई है। वास्तविकता यह है कि पाठ्यक्रम में महाराणा प्रताप के शूरवीरता, पराक्रम, शौर्य, सफल नेत्त्व और संगठन क्षमता का विस्तार से उल्लेख किया गया है। फिर भी बोर्ड ने पाठ्यपुस्तकों की समीक्षा समिति से समाचार माध्यमों में प्रकाशित मुद्दों पर तथ्यात्मक रिपोर्ट मांगी है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned