भूख से बिलबिलाते मजदूरों का पलायन, पैदल जा रहे थे एमपी

शिश्यंू (सीकर). मजदूरों का एक जिले से दूसरे जिले में पलायन जारी है। वह भी इस तरह की कड़ी धूप में मीलों पैदल चलना उपर से भूखा भी रहना। सैकड़ों हजारों की संख्या में इधर उधर फैले इन मजदूरों के लिए प्रशासन के पास न तो कोई योजना है और न ही प्रबंधन।

By: Sudhir Bile Bhatnagar

Published: 18 Apr 2020, 03:39 PM IST

शुक्रवार को पण्डोली से एमपी भैरूघाट के लिए महिला, पुरुष, बच्चे कुल 63 मजदूर पैदल ही चलकर रानोली तक पहुंच गए। इनमें 25 महिला, 11 छोटे बच्चे, 27 पुरुष शामिल हैं। इन लोगों को कही पर भी किसी भी अधिकारी ने नहीं रोका तथा कहीं पर भी इनकी जांच तक नहीं की गई। ये मजदूर 2 महीने पहले पण्डोली में मजदूरी करने के लिए आए थे। सभी मजदूरों ने आने के बाद 1 महीने तक मजदूरी की। इसके बाद से सभी ठाले बैठे थे। रुपए खत्म होने पर ये लोग पैदल ही एमपी के लिए रवाना हो गए। इन्हें रानोली में क्वारेंटाइन किया गया। वहीं पर खाना खिलाया गया।
गुजरात से 65 प्रवासियों को लेकर आ रहे एक ट्रक को बॉर्डर पर पकड़ा
आबूरोड . गुजरात के मोरबी जिले से 65 प्रवासी श्रमिकों व उनके परिजनों को लेकर अलवर जा रहे एक ट्रक को पुलिस ने मावल बॉर्डर पर पकड़ा है। ट्रक पर तिरपाल ढका हुआ था, मावल बॉर्डर पर रीको पुलिस ने ट्रक को रुकवाकर तिरपाल हटवाया तो उसमें 65 प्रवासी मजदूर सवार थे। पुलिस ने सभी के स्वास्थ्य की जांच करवाई। पुलिस उच्चाधिकारियों व बनासकांठा पुलिस को सूचना दी। यह पता चलने पर कि गुजरात के मोरबी जिले मेें कोरोना पॉजिटिव मिल चुका है, सभी मजदूरों को ट्रक में तत्काल गुजरात सीमा में भेज दिया गया।

Sudhir Bile Bhatnagar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned