Farmer Protest : दौसा के किसानों ने दिया आर्थिक सम्बल

84वें दिन भी किसानों का आंदोलन जारी

By: Rakhi Hajela

Published: 06 Mar 2021, 07:53 PM IST


शाहजहांपुर.खेड़ा बॉर्डर पर शनिवार को 84वें दिन भी किसानों का आंदोलन जारी रहा। बॉर्डर पर आमसभा को संबोधित करते हुए किसानों ने कहा कि पूंजीपतियों की नजर हमेशा से देश के सबसे बड़े कृषि क्षेत्र पर रही है। दशकों से हर सरकार की कोशिश रही है कि खेती किसानी को कॉरपोरेट के हाथ सौंपा जाए। पहले की कांग्रेस सरकारों की कोशिश सफल नहीं हुई लेकिन भाजपा ने इन मंसूबों को एक कदम आगे बढ़ा दिया है। देश की सबसे बड़ी आबादी आज भी कृषि क्षेत्र पर आश्रित है। नरेंद्र मोदी सरकार की कोशिश है कि इनके कुछ पूंजीपति मित्रों को इस बड़े क्षेत्र पर नियंत्रण मिल जाए। इन तीन कृषि.विरोधी कानूनों का यही परिणाम होगा जिस कारण देश भर के किसान आंदोलित हैं। शनिवार को पूर्वी राजस्थान के दौसा जिले से आए संयुक्त किसान मोर्चा,दौसा की ओर से संपतराम मीणा, रामकिशन ठेकेदार, डॉ. सीएल मीणा, प्रेम सिंह मीणा, भीम सिंह मीणा, जगदीश मीणा, बाबू लाल मीणा आदि ने आंदोलन के लिए एक जनरेटर सेट, माइक सेट और २१ हजार रुपए की नगद सहायता आंदोलन के लिए प्रदान की।
आमसभा को कृष्ण कुमार, सहज प्रीत सिंह, अमन वढला, काला सिंह मंडार,भूपेंद्र सिंह,सुखराज सिंह मान, सुखदेव सिंह, छगन चौधरी, कामरेड राजेन्द्र सिंह अधिवक्ता,घाजु राम रावत, महेंद्र सिंह, लक्ष्मण सिंह गोंडा, जगमाल पूर्व सरपंच,आनंद यादव, पाल सिंह खरलिया,रामकिशन महलावत,हिमांशु विद्रोही,भगत सिंह,सुरेंद्र चौधरी, ज्ञानी राजवीर सिंह,राजा राम मील, हरलाल सिंह मील, ईशा शर्मा आदि ने संबोधित किया। सभा का संचालन निर्मल कुमार ने किया।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned