400 किमी चल आ गई बजरी, न विभाग को दिखी, न पुलिस को

400 किमी चल आ गई बजरी, न विभाग को दिखी, न पुलिस को

Priyanka Yadav | Publish: May, 18 2018 12:21:45 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

उदयपुर व भीलवाड़ा से जयपुर आ रही बजरी, सरेआम बिक रही, पत्रिका ने देखा आंखो देखा हाल

जयपुर . 400 किलोमीटर दूर से आकर बजरी जयपुर में खुलेआम बिक रही है। इतनी दूर से आ रहे बजरी से भरे ट्रक रास्ते में न तो खनिज विभाग को दिखाई दिए और न ही पुलिस को। बजरी के ट्रक आते ही सौंदे भी हो रहे हैं और निर्माण स्थल तक जा रहे हैं। पत्रिका टीम ने गुरुवार को जगतपुरा, महल रोड, गोनेर और रामनगरिया क्षेत्र का जायजा लिया तो ये हालात दिखाई दिए। शहर में बजरी से भरे ट्रक उदयपुर व भीलवाड़ा से आ रहे हैं। ये सुनसान जगहों पर पहुंचते हैं और वहां दलालों के माध्यम से बिकते हैं। इसमें पुलिस की भी मिलीभगत सामने आई है। पुलिस कर्मी पैसे लेकर इन ट्रक को निकाल रहे हैं।

 

लगा रखी थीं ट्रेलर के आगे दो गाडिय़ां

पत्रिका टीम ने को जगतपुरा स्थित रामनगरिया में ज्ञान विहार यूनिवर्सिटी के पास बजरी से भरे शाहपुरा नंबर के तीन ट्रेलर दिखे। उन पर त्रिपाल लगाया हुआ था, ताकि किसी को शक न हो। कुछ मीटर दूरी पर दो कारों में दलाल बजरी के लिए लोगों से मोल-भाव कर रहे थे। जैसे ही सौदा तय हुआ दलाल ने एडवांस पैसे लेकर ट्रेलर को इंदिरा गांधी नगर में भेज दिया।

 

पहले 600 रुपए टन थे भाव, अब पहुंचे 1250 रुपए तक

एक ट्रेलर में आती है 70 टन बजरी
75000 रुपए तक कीमत
रोजाना आ रहे हैं 20 से 25 ट्रेलर
जगतपुरा, गोनेर, रामनगरिया में दिखते हैं ट्रेलर

 

वसूल रहे हैं दुगुने

रोक से पहले बजरी 600 रुपए प्रति टन थी जो अब 1100 से लेकर 1250 रुपए प्रति टन के दोगुने भाव से बेची जा रही है। अवैध बजरी खनन और प्रतिबंध पर लगाम लगाने की खान विभाग की तमाम कोशिशें फेल हो रही हैं।

 

यहां से आती बजरी

उदयपुर जिले में खरका नदी और भीलवाड़ा की बनास नदी से अवैध रूप से बजरी लाकर सप्लाई की जा रही है। इससे पहले कपासन से भी बजरी लाई जा रही थी।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned