...और चलते-चलते ऐसे मर्ग बन गया एक आदमी

जयपुर. अपने घर पहुंचने की आस लेकर पैदल निकले एक शख्स ने शहर की सड़क पर ही दम तोड़ दिया। वह कहां से आया और कहां जा रहा था, यह तो पता नहीं है, लेकिन यह तय है कि तेज धूप में लंबे-लंबे रास्तों ने उसे निगल लिया। अपने घर पहुंचने के लिए लाखों लोग किस तरह के हालात झेल रहे हैं, जयपुर में गोविंद मार्ग स्थित गुरुद्वारा मोड़ के पास गुरुवार को मिले बुजुर्ग के शव से पूरे हालात बयां हो रहे हैं। बिना नाम, बिना पते का यह आदमी पुलिस रिकार्ड में एक मर्ग बनकर दर्ज हो गया। मर्ग यानि पुलिस की जांच में सामान्य मौत। इस

By: Sudhir Bile Bhatnagar

Published: 15 May 2020, 05:19 PM IST


कई दिन से चल
रहा था पैदल
आशंका जताई गई है कि बुजुर्ग कई दिनों से पैदल चल रहा था और भूख-प्यास व थकान के चलते उसकी जान चली गई। बुजुर्ग राजधानी जयपुर में किसी तरह गुरुद्वारा मोड़ तक तो पहुंच गया। लेकिन यहां पर लाचारी के चलते जिंदगी का सफर हार गया। हुलिए से भिखारी भी नहीं लगता। उसके चेहरे पर अपनों तक पहुंचने की पीड़ा और लंबे सफर की थकान जरूर नजर आती है। आशंका है कि चलने की उम्मीद छोड़ देने पर बुजुर्ग यहां फुटपाथ पर ठहर गया। उसका कुछ सामान भी पुलिस को मिला है, जिसमें कुछ बर्तन और एक चटाई भी है।

पसीने से सफेद शर्ट भी हुई मैली
आशंका यह भी है कि बुजुर्ग कई किलोमीटर पैदल चला। इसके चलते धूप में भी उसने घर तक पहुंचने का सफर चालू रखा। इसके चलते पसीने से उसकी सफेद चौखाने वाली शर्ट मैली पड़ गई। नीले रंग की पेंट पहन रखी है। बुजुर्ग की उम्र करीब 60 वर्ष है। पुलिस मुर्दाघर में शव को रखवाकर उसके परिजनों की तलाश कर रही है। स्थानीय लोगों ने बताया कि तीन चार दिन से बुजुर्ग को यहां देखा जा रहा था। कोरोना के चलते किसी ने इससे कोई बातचीत भी नहीं की थी। जिसके कारण इसके बारे में कोई नहीं जानता। आस-पास वालों ने सूचना भी नहीं दी।

Sudhir Bile Bhatnagar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned