इस बार जमकर बरसेगा मानसून, बता रही ग्रहों की चाल, अच्छी होगी बारिश

इस बार जमकर बरसेगा मानसून, बता रही ग्रहों की चाल, अच्छी होगी बारिश

Deepshikha | Publish: Jun, 11 2019 07:37:10 PM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

22 जून को सूर्य का आद्रा नक्षत्र में प्रवेश, ग्रहों की अनुकूलता से अच्छा वर्षा के योग

हर्षित जैन / जयपुर. राजस्थान में समय से मानसून के पहुंचने के साथ ही इस बार विभिन्न खगोलीय ग्रहों की चाल और वर्षा कारक कई ग्रहों के संयोग के साथ ही ज्योतिषियों के आंकलन के अनुसार प्रदेश में अच्छी बारिश होगी। हालांकि कुछेक जिलों में कम बारिश का अनुमान है।

 

आकाशीय सत्ता के गृहमंत्री सूर्यदेव 22 जून की शाम 5.18 बजे आद्र्रा नक्षत्र में प्रवेश करेंगे। ज्योतिषविद् पं.दामोदर प्रसाद शर्मा के मुताबिक उक्त तिथि में वर्षा ऋतु प्रारंभ होने के समय बनने वाली कुण्डली के अनुसार आद्र्रा प्रवेश का लग्न वृश्चिक बना है, जो स्थिर लग्न और जल तत्व की राशि के अंतर्गत आता है। इसमें देवगुरु बृहस्पति संचार कर रहे हैं। वहीं, लग्न का स्वामी अग्नितत्व कारक मंगल ग्रह बना है, जो अष्टम भाव में सूर्यदेव, राहु के साथ स्थित है। इस कारण राजस्थान सहित भारत के अधिकांश भागों में गर्मी बढऩे से तापमान में फिलहाल कुछ वृद्धि होगी। इससे पिछले वर्ष के मुकाबले इस बार गर्मी के कई रिकॉर्ड भी टूट सकते हैं। वहीं, 22 जून से वर्षा ऋतु के आगाज के साथ मौसम में फिर से परिवर्तन देखने को मिलेगा।

 


जुलाई के पहले सप्ताह से अच्छी बारिश

पं. शर्मा ने बताया कि आद्रा प्रवेश के समय पंचमी तिथि और धनिष्ठा नक्षत्र के साथ विष्कुंभ योग भी बन रहा है। इसके अलावा वर्षा के चार स्तंभ जैसे जल, तृण, वायु और अन्न की सुदृढ़ता के साथ ही इस बार रोहिणी निवास धोबी के घर होना और समय का वाहन महिष(भैंसा) होने से इस बार अनुकूल वर्षा के योग बनेंगे। वहीं, ज्योतिष में अंकीय भाषा की गणना के अनुसार इस बार करीब 85 फीसदी वर्षा होने का अनुमान है। साथ ही हाल ही नौतपा के दौरान रोहिणी नक्षत्र का तपना भी ज्योतिषीय गणना के अनुसार बारिश के लिए अच्छा माना गया है।जून के अंतिम सप्ताह में मध्य भारत सहित पूर्वी इलाकों में मानसून सक्रिय होगा। जो जुलाई के पहले सप्ताह में राजस्थान सहित पूरे भारत में अच्छी वर्षा होगी।

 


नहीं होंगे किसानों के चेहरे मायूस

सभी जिलों में औसतन अच्छी बारिश होगी, जिससे किसानों के चेहरे खिले नजर आएंगे। इस बार जयपुर, उदयपुर, अजमेर, कोटा, झालवाड़, बांसवाड़ा, डूंगरपुर में सबसे अधिक बारिश और जोधपुर, बीकानेर, टोंक संभाग में सामान्य बारिश का योग रहेगा।


मानसून का पंचांग

-22 जून से राजस्थान के कई भागों में पूर्व मानसून की छितराई वर्षा
-28 जून को रात में शुक्र के मिथुन राशि में प्रवेश के साथ मध्यम वर्षा

-2 जुलाई को भारत के बाहर सूर्यग्रहण, वहीं, मिथुन राशि में चतुग्र्रही योग से व्यापक वर्षा के योग बनेंगे
-16 जुलाई को खंडग्रास चन्द्रग्रहण, मिथुन, धनु राशि में त्रिग्रही योग से कहीं कहीं मूसलाधार बारिश

-22 जुलाई को नागपंचमी के दिन शुक्र अस्त होकर अगले दिन जल तत्व कर्क राशि में प्रवेश करेगा जिससे 15 अगस्त तक श्रेष्ठ वर्षा कारक योग बनेंगे
-16 अगस्त को शुक्र सिंह राशि में प्रवेश करेगा, जिससे कि वायु प्रकोप को बढ़ावा, छितराई वर्षा संभव

-31 अगस्त को सूर्य का पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र में प्रवेश होगा। वहीं, सूर्य का वाहन अश्व होने से वर्षा का जोर कम होगा। 13 सिंतबर को सूर्य के उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में प्रवेश तथा सूर्य का वाहन चातक(मोर) बनने से अच्छी वर्षा होने की संभावना है।

 

वहीं, ज्योतिषविद पं.पुरुषोत्तम गौड़ ने भी कुछेक जिलों को छोड़कर प्रदेश में जुलाई, अगस्त के महीने में अच्छी बारिश होने का अनुमान जताया है। जिससे आमजन को राहत मिलेगी, साथ ही किसानों की फसलों को फायदा मिलेगा। ज्योतिषविद् पं.घनश्याम लाल स्वर्णकार के मुताबिक 15 जून की शाम 5.38 बजे से मिथुन की संक्राति लगेगी। वहीं विपरीत ग्रहों का समसप्तक योग होने से पश्चिमी राजस्थान में सामान्य वर्षा के बाद रुकावट आ जाएगी। इसके अलावा पूर्वी राजस्थान में 22 जून से 16 जुलाई तक अच्छी बारिश होगी। इसके बाद सिंतबर तक मूसलाधार बारिश के योग रहेंगे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned