scriptThe voices of Hanuman Chalisa | कॉलेज परिसर में गूंजे हनुमान चालीसा के स्वर | Patrika News

कॉलेज परिसर में गूंजे हनुमान चालीसा के स्वर

राजस्थान कॉलेज इन दिनों पढ़ाई से ज्यादा राजनीति का अखाड़ा बन गया है और छात्र संगठन भी धर्म के नाम पर राजनीति कर रहे हैं।

जयपुर

Published: November 15, 2021 10:13:51 pm

राजस्थान कॉलेज में नमाज पढऩे का मामला
परिषद कार्यकर्ता ने पढ़ी हनुमान चालीसा
भगवान बिरसा मुंडा की जयंती मनाई
एनएसयूआई ने किया मौन विरोध
जयपुर।


राजस्थान कॉलेज इन दिनों पढ़ाई से ज्यादा राजनीति का अखाड़ा बन गया है और छात्र संगठन भी धर्म के नाम पर राजनीति कर रहे हैं। नमाज पढ़े जाने के विरोध में सोमवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने जहां कॉलेज परिसर में भगवान बिरसा मुंडा की जयंती मनाई और हनुमान चालीसा का पाठ किया है वहीं दूसरी ओर एनएसयूआईने राजस्थान विवि परिसर में मौन विरोध जताया। इस पूरे प्रकरण को लेकर राजस्थान कॉलेज के प्राचार्य का कहना है कि शिक्षण संस्थान केवल पढ़ाई करने के लिए ही है यहां किसी अन्य प्रकार की गतिविधि की इजाजत नहीं दी जा सकती। धार्मिक आस्था से जुड़ी गतिविधियों के लिए अलग जगह निर्धारित होती है।
कॉलेज परिसर में गूंजे हनुमान चालीसा के स्वर
कॉलेज परिसर में गूंजे हनुमान चालीसा के स्वर,कॉलेज परिसर में गूंजे हनुमान चालीसा के स्वर,कॉलेज परिसर में गूंजे हनुमान चालीसा के स्वर
सोमवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता राजस्थान कॉलेज पंहुचे और भगवान बिरसा मुंडा की जयंती मनाई। इस दौरान मौके पर मौजूद पुलिस से कार्यकर्ताओं की कहासुनी भी हुई। पुलिस ने उन्हें वहां से हटाने का प्रयास किया लेकिन कार्यकर्ता नहीं माने और मुंडा की तस्वीर पर माल्र्यापण करने के बाद वहीं बैठक कर हनुमान चालीसा का पाठ शुरू कर दिया, ऐसे में पुलिस कुछ नहीं कर पाई। इस दौरान होश्यार मीना ने आरोप लगाया कि आज राजस्थान कॉलेज मे भगवान बिरसा की जयंती मनाई जा रही थी, तो कांग्रेस सरकार की पुलिस ने छात्रों को रोका और छात्रों पर हमला किया। जो कांग्रेस की छोटी सोच को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि बिरसा मुंडा को हनुमान चालीसा बहुत पसंद थी, इसलिए हमने हनुमान चालीसा का पाठ करके सांकेतिक रूप से यह मैसेज दिया है कि इस शिक्षा के मंदिर को कलंकित नहीं होने दिया जाएगा। हम इस बात का सम्मान करते हैं कि कॉलेज में सभी धर्मों के लोग पढ़ें। लेकिन कोई नमाज पढऩे के लिए मस्जिद या दूसरे धर्म के लिए कॉलेज में जमीन मांगे, यह विद्यार्थी परिषद को स्वीकार नहीं है।
एनएसयूआई का मौन विरोध
वहीं दूसरी ओर एनएसयूआई ने सोमवार को छात्र को नमाज पढऩे से रोकने वाले शिक्षक को निलम्बित किए जाने के विरोध में राजस्थान कॉलेज बंद करने का निर्णय लिया था लेकिन बाद में एनएसयूआई बैकफुट पर आ गया और संगठन के कार्यकर्ताओं ने राजस्थान विवि में मौन धरना देकर अपना विरोध जताया। वहीं राजस्थान कॉलेज के प्रिंसिपल ने भी इस पूरे घटनाक्रम को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी है। उनका कहना है कि शिक्षण संस्थान में ऐसी गतिविधियों की इजाजत नहीं दी जा सकती। शिक्षण संस्थान केवल अध्ययन करने के लिए ही है। उन्होंने यह भी कहा कि जिस छात्र ने नमाज अदा की है हो सकता है वह बाहर का हो और धार्मिक उन्माद फैलाने के उद्देश्य से यह कृत्य किया गया हो। राजस्थान विवि 1957 से संचालित हो रहा है हम चाहते हैं कि छात्र यहां से अपना भविष्य बनाकर यहां से जाएं। ऐसा कोई भी घटनाक्रम जिससे सौहाद्र्र खराब हो उसे नहीं किया जाना चाहिए। वहीं परिषद की ओर से पढ़ी गई हनुमान चालीसा पढ़े जाने को लेकर उन्होंने कहा कि कॉलेज में इसे स्वीकृति नहीं दी जाएगी। हम छात्रों को इसे लेकर समझाएंगे। जिससे फिर से ऐसी घटना नहीं हो। उन्होंने यह भी कहा कि यदि जरूरत हुई तो इस मामले में कानूनी कार्यवाही भी की जाएगी।
यह है मामला
। गौरतलब है कि शुक्रवार को कॉलेज ग्राउंड एक छात्र के नमाज अदा करने उसे मौके पर तैनात गार्ड और शिक्षक ने रोका था, जिसका छात्रों ने विरोध किया था, उस दौरान तो कॉलेज प्रशासन ने मामला शांत करवा दिया था लेकिन एनएसयूआई और परिषद के आमने सामने आने से इस मामले ने तूल पकड़ लिया था।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Corona Cases In India: देश में 24 घंटे में कोरोना के 2.68 लाख से ज्यादा केस आए सामने, जानिए क्या है मौत का आंकड़ाJob Reservation: हरियाणा के युवाओं को निजी क्षेत्र की नौकरियों में 75 फीसदी आरक्षण आज से लागूUP Election: चार दिन में बदल गया यूपी का चुनावी समीकरण, वर्षों बाद 'मंडल' बनाम 'कमंडल'अलवर दुष्कर्म मामलाः प्रियंका गांधी ने की पीड़िता के पिता से बात, हर संभव मदद का भरोसाArmy Day 2022: क्‍यों मनाया जाता है सेना दिवस, जानिए महत्व और इतिहास से जुड़े रोचक तथ्यभीम आर्मी प्रमुख चन्द्र शेखर ने अखिलेश यादव पर बोला हमला, मुलाकात के बाद आजाद निराशछत्तीसगढ़ में तेजी से बढ़ रहे कोरोना से मौत के आंकड़े, 24 घंटे में 5 मरीजों की मौत, 6153 नए संक्रमित मिले, सबसे ज्यादा पॉजिटिविटी रेट दुर्ग मेंयूपी विधानसभा चुनाव 2022 पहले चरण का नामांकन शुरू कैराना से खुला खाता, भाजपा के लिए सीटें बचाना है चुनौती
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.