जयपुर में टिड्डी दल के जून में और भी भीषण होंगे हमले

राजधानी जयपुर ( Jaipur ) में मई में 26 साल बाद हुआ टिड्डियों का हमला ( Locust attack ) अभी जारी है और जून में ( In June ) और भी भीषण हमले ( Fierce attack ) हो सकते हैं। ( Jaipur News )

By: sanjay kaushik

Published: 02 Jun 2020, 01:29 AM IST

-मई में 26 साल बाद हुए थे हमले

-जिला कलेक्टे्रट में रणनीतिक बैठक
जयपुर। राजधानी जयपुर ( Jaipur ) में मई में 26 साल बाद हुआ टिड्डियों का हमला ( Locust attack ) अभी जारी है और जून में ( In June ) और भी भीषण हमले ( fierce attack ) हो सकते हैं। ( Jaipur News ) जिला कलेक्टे्रट में सोमवार को जयपुर में टिड्डियों के हमलों के कारणों, आने वाले समय में इन हमलों की गंभीरता जैसे विषयों पर मंथन एवं उनके प्रकोप के निपटने की आगे की रणनीतिक बैठक आयोजित की गई। अतिरिक्त जिला कलेक्टर बीरबलङ्क्षसह की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में कीट विज्ञानियों, कीटविज्ञान से जुडे शिक्षाविदों, कृषि, पशुपालन एवं जिला प्रशासन के अधिकारियो ने भाग लिया।

-अंडे देने के समय में 10-15 दिन ही शेष

बैठक में बताया गया कि टिड्डियों से बचाव के लिए कई स्तर पर तैयारी की जरूरत है, जिसमें जयपुर के पड़ोसी जिलों के साथ ही सीमावर्ती जिलों के साथ भी समन्वित योजना की जरूरत होगी। टिड्डियों के अंडे देने की स्थिति में आने में 10-15 दिन ही शेष हैं, इसलिए जिले में सेंडी सॉयल वाले स्थानों पर विषेष नजर भी रखनी होगी। साथ ही टिड्डियों के खात्मे के लिए उपयोग किए जाने वाले कीटनाषकों के भी अपने नुकसान हैं, इसे देखते हुए दवा की निर्धारित मात्रा का ही उपयोग किया जाना चाहिए।

-पाक सीमा से बड़े हमले के आसार

उधर, आगामी दिनों में पाकिस्तानी सीमा से टिड्डियों का बहुत बड़ा हमला होने की संभावना है। इसके मद्देनजर टिड्डी नियंत्रण विभाग ने बड़े पैमाने पर एरियल कंट्रोल की योजना पर कार्य करना शुरू कर दिया है। टिड्डी से प्रभावित अधिक से अधिक इलाकों में ड्रोन की तैनाती की जा रही हैं, जिसमें मध्यप्रदेश के कुछ हिस्सों के अलावा राजस्थान के फलौदी, बाड़मेर एवं बीकानेर का क्षेत्र शामिल है।

-सीमा में घुसते ही नष्ट करने की योजना...चौकियां स्थापित

टिड्डी नियंत्रण विभाग की ओर से पाकिस्तान से टिड्डियों के भारतीय सीमा में घुसने पर उन्हें वहीं पर ही नष्ट करने की योजना पर कार्य करना शुरू कर दिया है। जैसलमेर से लगती भारत-पाक सीमा पर टिड्डी नियंत्रण विभाग में 10 चौकी स्थापित करने की योजना बनाई है, जिसमें से तीन चौकियों ने काम करना शुरू कर दिया है। जैसलमेर के रामगढ़, म्याजलार एवं धनाना क्षेत्र में यह चौकियां शुरू हो गई हैं।

sanjay kaushik Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned