तीसरी बार निर्भया के दोषियों के डेथ वारंट जारी

अब 3 मार्च को सुबह 6 बजे होगी फांसी

By: anoop singh

Published: 18 Feb 2020, 01:37 AM IST


नई दिल्ली.
निर्भया के चारों दोषियों के खिलाफ पटियाला हाउस कोर्ट ने सोमवार को तीसरी बार डेथ वारंट जारी किए। इस बार उन्हें 3 मार्च की सुबह 6 बजे फांसी देने का आदेश दिया गया है। बावजूद इसके दोषियों के फांसी पर लटकने की राह अभी साफ नहीं। वजह है दोषी पवन गुप्ता के पास क्यूरेटिव और दया याचिका के विकल्पों का बचा होना।
वहीं, दोषी अक्षय कुमार सिंह के वकील एपी सिंह ने कहा कि अक्षय के माता-पिता ने आधी-अधूरी दया याचिका दायर की थी। इसलिए वह अक्षय की ताजा दया याचिका राष्ट्रपति को भेजेंगे। वहीं, मुकेश की मां ने नया वकील करने के लिए आवेदन दिया। इसके बाद पवन का केस लड़ रहे वकील रवि काजी को वृंदा ग्रोवर की जगह मुकेश का भी वकील नियुक्त किया गया।
सरकारी वकील ने कहा कि सभी कानूनी विकल्प इस्तेमाल करने के लिए हाइकोर्ट की तरफ से दी गई एक हते की मियाद 11 फरवरी को पूरी हो चुकी है। मामले से संबंधित कोई भी याचिका इस समय कोर्ट में लंबित नहीं है। इसलिए दोषियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी किए जा सकते हैं।्र
न्याय में देर है, अंधेर नहीं
तीसरी बार डेथ वारंट जारी होने के कारण वे ज्यादा खुश नहीं हैं, लेकिन संतुष्ट हैं कि आखिरकार नए डेथ वारंट जारी किए गए हैं। न्याय में देर होती है, अंधेर नहीं होती। उन्हें उमीद है कि दोषियों को तीन मार्च को फांसी दे दी जाएगी। द्गनिर्भया की मां, कोर्ट के फैसले के बाद
'अब भी फांसी की संभावना कमÓ
सुप्रीम कोर्ट के वकील अलख आलोक श्रीवास्तव का कहना है कि मामले के चौथे दोषी पवन के पास अभी क्यूरेटिव और दया याचिका का विकल्प है। वह इसमें समय लगा सकता है। क्यूरेटिव पिटीशन खारिज होने के बाद दया याचिका दाखिल करने के लिए 7 दिन का समय होता है। दया याचिका खारिज होने पर भी 14 दिन बाद ही फांसी दी जा सकती है। वह भी तब जब तिहाड़ जेल प्रशासन नए डेथ वारंट के लिए ट्रायल कोर्ट जाएगा। ऐसे में तीन मार्च को फांसी होगी इसकी संभावना कम ही है।
भूख हड़ताल पर बैठा दोषी विनय
तिहाड़ जेल प्रशासन ने कोर्ट को बताया कि दोषी विनय शर्मा भूख हड़ताल पर है। दोषियों के वकील एपी सिंह ने भी कोर्ट को बताया कि विनय 11 फरवरी से भूख हड़ताल पर हैं। इस पर कोर्ट ने जेल प्रशासन को आदेश दिया कि वह कानून के अनुसार विनय की देखभाल करें।

anoop singh Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned