सोने से भी महंगा है यह नशा, हो रही पीढिय़ां बर्बाद

सिंथेटिक मादक पदार्थ बने खतरा : 50 गुना अधिक होती है नशे की क्षमता, विश्वस्तरीय सुरक्षा एजेंसियां सतर्क, दिल्ली में जुटे देश-विदेश के अधिकारी

By: Abrar Ahmad

Published: 18 Feb 2020, 07:05 PM IST

जयपुर. तस्कर मोटी कमाई के लालच में सिंथेटिक मादक पदार्थ भी बाजार में बेच रहे हैं। सिंथेटिक मादक पदार्थ में नशे की क्षमता अन्य आम मादक पदार्थों से 50 गुना अधिक तक होती है। यह चौंकाने वाला खुलासा हाल ही दिल्ली में देश-विदेश की सुरक्षा एजेंसियों की अधिकारियों की बैठक में हुआ है। बैठक सिंथेटिक ड्रग माफिया के खिलाफ सख्त कार्रवाई और रोकथाम को लेकर आयोजित की गई थी। बैठक में राजस्थान का भी नाम आया और कहा गया कि अजमेर में मिली सिंथेटिक ड्रग खतरनाक है। अजमेर में सिंथेटिक मादक पदार्थ एमडी ड्रग पकड़ी जा चुकी है। स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) ने यह चौंकाने वाला खुलासा किया है।

एडीजी पालीवाल ने बताया कि सिंथेटिक मादक पदार्थ बनाने वाले देश ही नहीं, विदेश के लिए खतरा बनते जा रहे हैं। अंतरराष्ट्रीय स्तर हुए मंथन में यह भी सामने आया कि आज विश्व में प्रत्येक 100 नागरिक में से 5 किसी ना किसी तरह का नशा कर रहे हैं। इनकी संख्या बढ़ती जा रही है। भारत में भी इसका आंकड़ा लगभग बराबर होगा। सभी तरह का नशा मानव जीवन के लिए खतरा है। लेकिन अब लोगों के बीच में सिंथेटिक ड्रग पांव पसार रहा है, जो मानव शरीर के लिए बड़ा घातक है।
केमिकल के जरिए तैयार करते
चरस, अफीम सहित अन्य मादक पदार्थ में केमिकल की मात्रा बहुत अधिक मिलाकर सिंथेटिक मादक पदार्थ तैयार किए जा रहे हैं। राजस्थान में एसओजी के साथ सभी जिला पुलिस को मादक पदार्थ तस्करों के खिलाफ सख्ती से कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। प्रदेश में इनके खिलाफ प्रभावी कार्रवाई भी हो रही है।

Abrar Ahmad Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned