सियासी घमासान के बीच पायलट खेमे का ये अनूठा दांव

राजस्थान की कांग्रेस सियासत में घमासान के बीच पायलट खेमे ने अब नई रणनीति पर काम शुरू कर दिया है।

By: rahul

Published: 27 Jun 2021, 09:31 AM IST

जयपुर। राजस्थान की कांग्रेस सियासत में घमासान के बीच पायलट खेमे ने अब नई रणनीति पर काम शुरू कर दिया है। पायलट खेेमे के समर्थक विधायक और अन्य नेता उन्हें 36 कौम का नेता बताने के लिए कोशिशों में जुट गए है। इसके लिए होर्डिग— पोस्टर के साथ साथ अब अलग अलग वर्गो के कार्यक्रम किए जा रहे है। उधर पूर्व कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष नारायण सिंह के बयान के बाद अब उनके बेटे और दांतारामगढ़ से कांग्रेस विधायक वीरेंद्र सिंह ने भी पायलट विरोधियों पर निशाना साधा है जिससे जाट राजनीति में अब नेता बनने की होड भी दिखने लगी है।

टोंक के बाद अब दौसा में होर्डिंग पोस्टर वॉर — हाल ही में सचिन पायलट के उनके विधानसभा क्षेत्र टोंक में होर्डिंग पोस्टर वॉर शृरू किया गया था। इसमें “पायलट आ रहा है” लिखा हुआ है। इसके बाद अब दौसा में भी उनके समर्थक विधायकों मुरारीलाल मीणा, जी आर खटाणा ने होर्डिंग पोस्टर वॉर शुरु कर दिया है। इससे पहले पायलट के निर्वाचन क्षेत्र टोंक में बड़े बड़े होर्डिंग्स लगे है। इन होर्डिंग के बारे में उनके समर्थकों का कहना हैं कि हम उन्हें सीएम के रूप में देखना चाहते है।
चोखो लाग्यो रे पायलट तिलक रोळी मोळी को — इसी तरह चाकसू से कल मीणा समाज की महिलाएं पायलट के निवास पर पहुंची और चोखो लाग्यो रे पायलट तिलक रोळी मोळी जैसे देशी गीतों को गाया। गीत के दौरान पायलट भी महिलाओं के बीच आभार प्रकट करने पहुंचे। मीणा समाज की महिलाओं की ओर से पायलट के समर्थन में गाए गए गीतों को निर्दलीय विधायक रामकेश मीणा के पायलट विरोधी बयानों की मीणा समाज की ओर से दिया गया जवाब माना जा रहा है। इससे पहले पायलट जांगिड समाज की ओर से आयोजित रक्तदान कार्यक्रम में शामिल हुए थे। पायलट के समर्थक इन्हें 36 कौम का नेता बताने के लिए अब अलग अलग जातियों के कार्यक्रम कराने की रणनीति पर काम कर रहे है।

गहलोत पर निशाना, डोटासरा का बहाना—
दांतारामगढ़ से कांग्रेस विधायक वीरेंद्र सिंह ने सचिन पायलट से शनिवार को मुलाकात की थी। पायलट से मुलाकात करने के बाद विधायक वीरेंद्र सिंह ने कांग्रेस में जिला और ब्लॉक स्तर पर 11 महीने से भंग पड़े संगठन में नियुक्तियां नहीं होने पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर सीधा निशाना साधा था। यही नहीं उन्होंने कांग्रेस संगठन नहीं बनने पर प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा को भी आडे हाथ लिया।

हमारे खिलाफ वालों को ही बना दों—
उन्होंने कहा कि सरकार संगठन से बनती है और हम सरकार बनाने के बावजूद संगठन नहीं बना पा रहे। सचिन पायलट ने प्रदेशाध्यक्ष रहते हुए मेहनत की तब कांग्रेस की सरकार बनी है। पूरा साल निकाल दिया, संगठन का अता पता नहीं है। यह इतिहास में पहला मौका है जब किसी प्रदेश में कांग्रेस का संगठन साल भर से भी ज्यादा समय से नहीं बना हो। जिसे बनाना हो उसे बनाइए लेकिन जिला-ब्लॉक खाली पड़े हैं वहां नियुक्ति तो कीजिए। सिंह ने कहा कि हम कौनसी ये मांग कर रहे हैं कि हमारे ही लोगों को बनाइए। जो पायलट के खिलाफ हैं उन्हें ही बना दीजिए।

Congress
rahul Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned