सिक्गायोरिटी गार्ड की हत्या करने वाला मुख्य आरोपी सहित तीन गिरफ्तार

हत्या कर बोरे में शव डालकर दिया था फेंक

By: Lalit Tiwari

Published: 28 Oct 2020, 10:03 PM IST

सांगानेर सदर {sanganer sadar} थाना पुलिस ने सीतापुरा औद्योगिक क्षेत्र में सुरक्षा गार्ड की हत्या {hatya} कर बोरे में शव फेंकने का खुलासा करते हुए मुख्य आरोपी सहित तीन जनों को गिरफ्तार {arrest} किया हैं। हत्या की यह वारदात मृतक की बहू के मुंहबोले भाई ने रची थी। उसने मृतक के फोन पे का पासवर्ड {phonpe} बदलते वक्त खाते में मोटी रकम देखकर रुपए पाने के लालच में दो दोस्तों के साथ मोबाइल फोन {mobile phone} लूटने के लिए सोमवार को गला घोंटकर हत्या {hatya} कर दी। पुलिस पूरे मामले की जांच कर बदमाशों के आपराधिक रिकार्ड को खंगालने में जुट गई हैं।
डीसीपी (दक्षिण) मनोज कुमार चौधरी ने बताया कि हत्या के मामले में आरोपी तेजसिंह गुर्जर (21), असलम खान (19) और अभिषेक उर्फ गोल सैन (21) निवासी मलारना डूंगर सवाईमाधोपुर को गिरफ्तार किया हैं। मृतक घनश्याम वैष्णव के बेटे की शादी चाणढोली गांव में ही हुई थी। इनमें आरोपी तेज सिंह, मृतक घनश्याम वैष्णव की बहू का मुंहबोला भाई लगता था। इससे तेजसिंह का घनश्याम के घर आना जाना था। तेजसिंह व असलम पिछले करीब एक सप्ताह से यहां गोलू के साथ कमरे पर रह रहे थे। इसके बाद पांच दिन पहले ही तेजसिंह व असलम ने मृतक घनश्याम वैष्णव के घर के पड़ौस में रहने के लिए कमरा किराए पर लिया था।

फोन पे का बदलवाया पासवर्ड तो आया लालच-
बदमाशों ने पूछताछ में बताया कि मृतक घनश्याम के बेटे व बहू 22 अक्टूबर को गांव गए थे। जाते समय वह उनके देखभाल और खाने पीने की जिम्मेदारी तेजसिंह को देकर गए थे। मृतक घनश्याम तेजसिंह पर पूरा विश्वास करता था। एक दिन उसने अपना मोबाइल फोन देकर तेजसिंह से फोन पे का पासवर्ड बदलवाया। बातचीत के दौरान तेजसिंह को पता चला गया कि फोन पे के अंदर 1 लाख 91 हजार रुपए हैं। तेजसिंह के मन में लालच आ गया। उसने अपने दोस्त असलम और गोलू को इसकी जानकारी दी। तब गोलू ने तेजसिंह से कहा कि तुम घनश्याम का मोबाइल फोन ले आओ। मैं उसके खाते के पैसे ट्रांसफर कर निकाल लूंगा। साजिश के सूत्रधार गोलू ने यह भी कहा कि घनश्याम रात को 8 बजे साइकिल से ड्यूटी पर जाता है। तब तुम मोबाइल पर फोन करना। जब वह मोबाइल फोन सुनने के लिए जैसे ही फोन उठाएगा। तुम मोबाइल फोन लूट कर भाग जाना।

गला घोंटकर की हत्या-
थानाधिकारी हरिपाल सिंह ने बताया कि तेजसिंह व असलम ने दो दिनों तक घनश्याम का पीछा किया। लेकिन वह मोबाइल फोन नहीं लूट सके। तब तीनों दोस्तों ने घनश्याम की हत्या {hatya}कर मोबाइल फोन {mobile phone} लूटने {loot} की साजिश रची। इसके बाद 25 अक्टूबर को तेजसिंह अपने दोस्त असलम को लेकर घनश्याम वैष्णव के घर पहुंचे। वहां खाना खाकर सोने का नाटक किया। इसके बाद जब घनश्याम वैष्णव भी खाना खाकर सो गए। तब दोनों युवकों ने गला दबाकर उनकी गला घोंटकर हत्या {hatya} कर दी। इसके बाद लाश को एक बोरे में डाल दिया और घनश्याम का मोबाइल फोन अपने दोस्त गोलू को ले जाकर दे दिया।

दोस्त की स्कूटी से ले गए लाश-
एडिशनल डीसीपी अवनीश कुमार शर्मा ने बताया कि हत्या के बाद तेजसिंह ने अपने दोस्त मंजीत को फोन कर कहा कि वह किसी लड़की से मिलने जा रहा है। यह बहाना बनाकर तेजसिंह अपने दोस्त की स्कूटी ले आया। इसके बाद वे दोनों कमरे में रखा शव को स्कूटी पर डाला और फिर सीतापुरा औद्योगिक क्षेत्र में फेंककर आ गए। उन्होंने बोरे पर एक गद्दी डाल दी। ताकि कोई देख नहीं सके। अगले दिन 26 अक्टूबर को लाश वाले बोरे को कुत्ते नोंच रहे थे। तब सूचना मिलने पर सांगानेर सदर पुलिस मौके पर पहुंची और शव की शिनाख्त की।

Lalit Tiwari Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned