एटीएम मशीन काटने वाले तीन बदमाश गिरफ्तार

तीन सदस्य, गुड़गाव, हरियाणा और जयपुर से गिरफ्तार

By: Lalit Tiwari

Published: 29 Jun 2020, 11:14 PM IST

पुलिस आयुक्तलाय की जिला विशेष टीम, मुहाना, मानसरोवर और शिप्रापथ थाना पुलिस ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए एटीएम मशीन काटकर लाखों रुपए ले जाने के मामले का खुलासा करते हुए तीन बदमाशों को गिरफ्तार किया हैं। पुलिस ने उनके कब्जे से गैस कटर, व्लो पाईप, गैस सिलेण्डर, एटीएम मशीन के बॉक्स, बाइक और कार भी बरामद की हैं। बदमाशों के मेवात की एटीएम काटने वाले गैंग से भी तार जुड़े हैं।
एडिशनल कमिश्नर (प्रथम) अशोक गुप्ता ने बताया कि 22 जून को मुहाना थाना इलाके में धौलाई में लगे एसबीआई बैंक के एटीएम के गार्ड को रिवाल्वर दिखाकर बंधन बनाकर एटीएम काटकर बदमाश 23 लाख 77 हजार रुपयों से भरा बॉक्स ले गए थे। इस संबंध में मुख्य प्रबंधक तुलसीराम ने थाने में मामला दर्ज करवाया था। मामला दर्ज होने के बाद डीसीपी (दक्षिण) योगेश दाधीच के नेतृत्व में पुलिस टीम गठित की गई थी। पुलिस ने सीसीटीवी कैमरों की फुटेज और मुखिबर की सूचना के बाद 50 से अधिक आस-पास के होटलों और गेस्ट हाउस का रिकार्ड चैंक किया। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए जिला केथल, हरियाणा से जिंद हरियाणा निवासी देवेन्द्र उर्फ देवा (25), गुडगांव हरियाणा निवासी रंजन कुमार (30), लक्ष्मणपुरा बटमालू निवासी अब्दुल वहीद भट्ट उर्फ अमन (32) को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने उनके कब्जे से एटीएम काटने वाले उपकरण गैस कटर, व्लो पाईपस गैस सिलेण्डर, एटीएम मशीन के बॉक्स, रैकी में शामिल कार, बाइक बरामद की हैं। पुलिस अब इस घटना में शामिल अन्य बदमाशों और एटीएम से निकाली गई रकम और कार को बरामद करने का प्रयास करेगी।

मणप्पुरम गोल्ड लॉन कंपनी में की थी वारदात-
पुलिस ने बताया कि आरोपी देवेन्द्र उर्फ देवा पूर्व में फरवरी 2017 में मणप्पुरम गोल्ड लॉन कम्पनी गुड़गांव हरियाणा से हथियारों की नॉक पर 30 किलो सोना और 8 लाख रुपए नकद लूटकर ले जाने वाली डकैती की वारदात में गिरफ्तार हो चुका हैं।

वारदात का तरीका-
आरोपी विभिन्न स्थानों पर एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम का बहाना बनाकर किराए का मकान लेकर रहते है। आस-पास के क्षेत्र में रैकी कर सुनसान स्थानों पर एटीएम मशीन देखकर उसे काटकर नकद राशि ले जाने का निर्णय लेते है। एटीएम को काटने से मेवात क्षेत्र के बदमाशों की मदद ले जाती हैं। बदमाश इस कार्य में गैस कटर, गैस सिलेण्डर और वाहनों की व्यवस्था पूर्व से कर लेते है। ताकि पुलिस या पता लग जाने से वह वाहनों से भाग सके। इसके लिए बदमाश कच्चे रास्तों का चयन करते हैं।

एक सप्ताह बाद फिर लूटने वाले थे एटीएम-
पुलिस पड़ताल में सामने आया कि आरोपी एक सप्ताह बाद ही एक और एटीएम लूट की योजना बना रहे थे। पुलिस के मुखिबर तंत्र और डिजिटल डाटा संकलन और सीसीटीवी फुटेज के आधार पर गैंग के तीन सदस्यों को अगली वारदात को अंजाम देने से पहले डैकती सहित अन्य धाराओं में गिरफ्तार कर लिया।

Show More
Lalit Tiwari Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned