रेमडेसिविर की कालाबाजारी करते तीन नर्सिगकर्मी गिरफ्तार

सीएसटी टीम की कार्रवाई, दो इंजेक्शन बरामद

By: Lalit Tiwari

Published: 10 May 2021, 11:10 PM IST

पुलिस कमिश्नरेट की सीएसटी टीम ने शिप्रापथ में कार्रवाई करते हुए रेमडेसिवर इंजेक्शन की कालाबाजारी करते हुए तीन नर्सिंगकर्मियों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने उनके पास से दो रेमडेसिवर इंजेक्शन बरामद किए।
डीसीपी दिगंत आनंद ने बताया कि टोडारायसिंह निवासी दिनेश खटीक, दौसा के बांदीकुई निवासी राकेश प्रजापत और धौलपुर के बाड़ी निवासी सोनू मीणा को गिरफ्तार किया है। आरोपी दिनेश न्यू सांगानेर रोड स्थित स्पर्श हॉस्पिटल में और सोनू मीणा मानसरोवर स्थित टैगोर हॉस्पिटल में नर्सिंगकर्मी है। जबकि राकेश प्रजापत होम केयर मेल नर्स है। क्राइम ब्रांच को मुखबिर से सूचना मिली कि मानसरोवर में एक युवक रेमडेसिवर इंजेक्शन बेच रहा है। उक्त सूचना पर क्राइम ब्रांच और शिप्रापथ थाना पुलिस की दो टीमों ने लोकेशन के आधार पर टैगोर हॉस्पिटल के पास आरोपी राकेश को पकड़ा तो उसके पास दो इंजेक्शन मिले। राकेश ने पूछताछ में बताया कि इंजेक्शन दिनेश से लाया है और 30 हजार रुपए प्रति इंजेक्शन के हिसाब से किसी को देने आया है। पुलिस ने दिनेश को पकड़कर पूछताछ की तो उसने बताया कि इंजेक्शन सोनू ने दिए हैं। तब सोनू को पकड़ा गया। जबकि उनका चौथा साथी नर्सिंगकर्मी भाग गया। उसकी तलाश है।

दस दिन से कालाबाजारी में लगे थे
पुलिस पूछताछ में सामने आया कि रेमडेसिविर इंजेक्शन मेडिकल स्टोर पर करीब 3400 रुपए में मिलता हैं। आरोपी राकेश प्रजापत ने कोरोना महामारी के कारण इंजेक्शन का अभाव होने पर दिनेश खटीक से सम्पर्क किया। राकेश प्रजापत ने बताया कि कुछ समय पहले भी दिनेश खटीक ने इंजेक्शन उपलब्ध करवाए थे। आरोपियों के मोबाइल बरामद कर देखा गया तो गत दस दिन से रेमडेसिवर इंजेकन और ऑक्सीजन खरीदने व बेचने को लेकर आपस में चेट चल रही है। आरोपियों ने पूछताछ में कुछ निजी हॉस्पिटल के चिकित्सकों के शामिल होने की जानकारी दी है। पुलिस मामले की जांच कर रही हैं।

Lalit Tiwari Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned