तीन अधिकारियों ने की पॉक्सो मामले की जांच, तीनों ने किया अदालत को गुमराह

अभियुक्त को जीवन भर की जेल, अधिकारियों पर कार्रवाई के लिए डीजीपी को कहा

Abrar Ahmad

December, 0406:54 PM

जयपुर. 10वीं कक्षा की दलित छात्रा को प्रेमजाल में फंसा कर 2 माह तक देश के विभिन्न स्थानों पर ले जाकर बलात्कार करने वाले अभियुक्त को पोक्सो मामलों की विशेष अदालत 6 ने जीवनभर के कारावास की सजा सुनाई है। जज डॉ. एल.डी. किराडू ने अभियुक्त बिजनौर उत्तरप्रदेश निवासी सरबजीत सिंह बेदी को बलात्कार, अपहरण, एससी-एसटी एक्ट में दोषी मानते हुए कारावास के अतिरिक्त 1.70 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया है। राज्य सरकार की ओर से एसपीपी ललिता संजीव महरवाल ने अदालत को बताया कि पीडि़ता सहेली के साथ 10 दिसम्बर, 2015 को घर पर बिना बताए घूमने के लिए जयपुर से गई थी। दिल्ली में पीडि़ता को अभियुक्त ने प्रेमजाल में फंसा लिया।

कोर्ट ने आदेश में कहा कि वर्तमान में ऐसी घटनाएं बढ़ रही हैं। बालिकाएं अपने को असुरक्षित महसूस कर रही हैं। जब कोर्ट द्वारा अभियुक्त को ऐसे प्रकृति के अपराध के लिए दोषी पाया है, तो फिर दण्ड की मात्रा व प्रकृति के संबंध में उसके प्रति सहानुभूति का रूख नहीं अपनाया जा सकता है। इसलिए ऐसा न्यायोचित दण्ड दिया जाए, जिससे अपराध की पुनरावृत्ति की हिम्मत नहीं कर सकें।

डीजीपी को कार्रवाई के दिए आदेश

रिपोर्ट की जांच थानेदार कैलाश चन्द को दी गई। 11 फरवरी, 2016 को पुलिस को पीडि़ता मिल गई थी। नाबालिग साबित होने पर जांच सीआई गुर भूपेन्द्र सिंह को दी गई। मिलने के 20 दिन बाद पीडि़ता के न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष 2 मार्च, 2016 को धारा 164 में बयान करवाए। 26 दिन बाद 28 मार्च को पीडि़ता का मेडिकल कराया गया। पीडि़ता अनुसूचित जाति की होने पर जांच आरपीएस अफसर सुरेश कुमार को सौंपी गई थी। तीनों पुलिस अफसरों ने इस प्रकरण में गंभीर लापरवाही बरतते हुए खराब अनुसंधान किया। किसने मेडिकल कराया, किसने 161 में बयान लिए, धारा 164 में बयान किसने कराए सहित अन्य तथ्य पर तीनों अफसरों ने कोर्ट में गलत बयानी की और कोर्ट को गुमराह करने का प्रयास किया। इन्होंने अपने कर्तव्य निर्वहन में लापरवाही की है, जिसके संबंध में पुलिस महानिदेशक, राजस्थान को लिखा जाना न्याय संगत है।

Abrar Ahmad
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned