Social Commerce के जरिए रेवेन्यू बढ़ा रहा #TikTok

TikTok अपने कुछ यूजर्स को बायो सेक्शन और वीडियो क्लिप में ई-कॉमर्स आदि वेबसाइट्स के लिंक लगाने का ऑप्शन दे रहा है। इस लिंक पर क्लिक कर यूजर उस वेबसाइट पर जा सकते हैं।

  • Social Commerce के जरिए रेवेन्यू बढ़ा रही tiktok
  • रेवेन्यू बढ़ाने के लिए सोशल कॉमर्स का जरिया
  • वेबसाइट्स के लिंक्स लगाने का ऑप्शन
  • टॉप यूजर्स के पास ही है यह फीचर
  • फ्लिपकार्ट कर रही टिकटॉक का यूज
  • दूसरे सोशल मीडिया एप टिकटॉक के सहारे

वीडियो शेयरिंग सोशल एप टिकटॉक (Video Sharing App TikTok) दुनियाभर में धूम मचा रहा है। भारत (India) में तो इसको खासा पसंद किया जा रहा है। TikTok एप को दुनियाभर में 150 करोड़ से अधिक बार डाउनलोड किया जा चुका है। ऐसे में वीडियो शेयरिंग एप टिकटॉक अपना रेवेन्यू बढ़ाने के लिए सोशल कॉमर्स को जरिया बना रही है। इस नए प्रयोग में TikTok अपने कुछ यूजर्स को बायो सेक्शन और वीडियो क्लिप में ई-कॉमर्स आदि वेबसाइट्स के लिंक लगाने का ऑप्शन दे रहा है। इस लिंक पर क्लिक कर यूजर उस वेबसाइट पर जा सकते हैं। उदाहरण के तौर पर Flipkart के बिग बिलियन सेल कैंपेन के लिए बने वीडियो को टिकटॉक पर हफ्ते के शुरुआती तीन दिनों में 30 करोड़ से अधिक व्यू मिले थे। किसी बड़े ई-कॉमर्स प्लेयर ने पहली बार अपने ब्रांड के प्रचार के लिए बाइट डांस के इस शॉर्ट वीडियो एप का इस्तेमाल किया। हालांकि, बायो सेक्शन और वीडियो क्लिप में लिंक पोस्ट करने का यह फीचर अभी तक कंपनी के टॉप यूजर्स के पास ही उपलब्ध है। इसके सहारे टिकटॉक एडवरटाइजिंग के अलावा दूसरे तरीके से भी रेेवेन्यू कमा रही है। एप का ट्रेंडिंग हैशटैग चैलेंज पैसा कमाने का नया जरिया बन कर उभरा है। वहीं, टिकटॉक कॉस्ट पर माइल, कॉस्ट पर डे, कॉस्ट पर क्लिक जैसे तरीकों से भी कमाई करता है।

पॉपुलर सोशल मीडिया एप सोशल कॉमर्स का उपयोग अपनी आय बढ़ाने में कर रही हैं। टिकटॉक के अलावा इंस्टाग्राम, पिंटरेस्ट और स्नैपचैट पर भी सोशल कॉमर्स को यूटिलाइज करने वाले फीचर उपलब्ध हैं। हालांकि सोशल कॉमर्स के बारे में जानकारी देते हुए टिकटॉक एप के मालिकाना हक वाली कंपनी बाइटडांस की ओर से कहा गया कि वे यूजर्स के अनुभव को बेहतर बनाने के लिए प्रयोग करते रहते हैं। हालांकि, टिकटॉक ने इस बारे में जानकारी नहीं दी है कि जिन यूजर्स को बायो सेक्शन और वीडियो क्लिप में लिंक डालने का फीचर दिया जा रहा है, उन यूजर्स को किस आधार पर चुना गया है। गौरतलब है कि टिकटॉक मार्केटिंग का नया प्लेटफॉर्म बनकर उभरा है। भारत में इसकी पॉपुलरिटी इतनी अधिक है कि डाउनलोडिंग के मामले में चीन और अमरिका जैसे देश भी पीछे छूट गए हैं। ऐसे में भारतीय बाजार के विस्तार को देखते हुए कई कंपनियां टिकटॉक का इस्तेमाल कर अपनी मार्केटिंग स्ट्रेटेजी तैयार कर रही हैं।

अगर टिकटॉक इस फीचर को बड़े स्तर पर लॉन्च करता है तो इससे सोशल कॉमर्स का पूरा स्वरूप बदल जाएगा। कई सोशल मीडिया कंपनियों ने ग्राहकों के लिए शॉपिंग फीचर उपलब्ध करवाया है। डूंजो, बाउंस, डेटिंग एप टनटन, सोशल कॉमर्स प्लेटफॉर्म मीशो और शॉर्ट वीडियो सोशल नेटवर्किंग एप बिगो भी नए यूजर्स तक पहुंचने के लिए टिकटॉक पर एडवरटाइजिंग करते नजर आ रहे हैं। सोशल कॉमर्स के जरिए ग्राहक इस एप के माध्यम से शॉपिंग और दूसरी वेबसाइट्स पर जा सकते हैं। चीन जैसे देशों में यह तरीका बेहद लोकप्रिय हो रहा है और यह अमेजन जैसी बड़ी ई-कॉमर्स कंपनियों को टक्कर दे रहा है। कई जानकारों का कहना है कि टिकटॉक ने इस फीचर की तैयारी पिछले साल ही शुरू कर दी थी। तब कंपनी ने एडवरटाइजिंग के लिए पेप्सी, मिंत्रा, शादी.कॉम जैसी बड़ी कंपनियों से हाथ मिलाया था।

Show More
Abhishek sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned