स्वाद और सेहत से भरपूर टोफू

टोफू, पनीर के जैसे ही प्रोटीन का बेहतरीन स्रोत होता है। इसके अलावा इसमें आयरन, जिंक, अमीनो एसिड, कैल्शियम और अन्य पोषक तत्व भी पाए जाते हैं।

Kiran Kaur

February, 1501:41 PM

टोफू, पनीर के जैसे ही प्रोटीन का बेहतरीन स्रोत होता है। इसके अलावा इसमें आयरन, जिंक, अमीनो एसिड, कैल्शियम और अन्य पोषक तत्व भी पाए जाते हैं। टोफू को सोया से तैयार किया जाता है। कई सोया खाद्य पदार्थों की तरह, टोफू की उत्पत्ति भी चीन में हुई। कहा जाता है कि यह लगभग 2,000 साल पहले एक चीनी रसोइए द्वारा खोजा गया था। आठवीं शताब्दी में जापान में टोफू को मूल रूप से ओकेबे कहा जाता था। 1960 में हेल्दी फूड में रुचि रखने वाले पश्चिमी देशों में टोफू लाया गया। अगर आप भी इस हेल्दी फूड को डाइट में शामिल करना चाहते हैं तो इन बातों का ध्यान रखें।
टोफू का अपना कोई स्वाद नहीं होता, लेकिन अगर इसे कुछ देर के लिए मेरिनेट कर दिया जाए तो इससे स्वादिष्ट कुछ और नहीं। मेरिनेट किए हुए टोफू से आप तरह-तरह की शानदार रेसिपी बना सकते हैं।टोफू को जब भी पकाएं तो लाइट ब्राउन ही फ्राई करना चाहिए वरना इसका टेस्ट काफी खराब लगता है। टोफू दिखने में काफी ड्राई लगता है, लेकिन इस में भरपूर मात्रा में नमी होती है। इसलिए अगर आपको टोफू की कोई भी डिश बनानी है तो दो प्लेट के बीच में टोफू को रखकर उसका अतिरिक्त पानी निचोड़ दें वरना आपकी डिश में पानी बढ़ जाएगा। अगर आप प्लेट विधि को नहीं अपनाना चाहते तो टोफू को किसी टिश्यू पेपर पर रख दें इससे भी इसका अतिरिक्त पानी निकल जाएगा।
पनीर की तरह ही टोफू के कटलेट या पकौड़े भी बनाए जा सकते हैं। यदि आप इनके पकौड़े बनाना चाहती हैं तो इनके ऊपर थोड़ा कॉर्न-स्टार्च स्प्रेड कर दें। टोफू को जब भी फ्राई करने के लिए जाएं तो ध्यान रखें कि पैन काफी तेज आंच पर गर्म हो चुका हो। ऐसा इसलिए भी क्योंकि हमें इसके भीतर की नमी को कम करना होता है।

Kiran Kaur Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned