रोड मैप के अनुसार हुआ काम, तो सुधरेगा पर्यटन

राज्य सरकार की नीतियों में पर्यटन(rajasthan touism) व्यवसाय भी प्रमुखता से शामिल है। इसको लेकर नए सिरे से कवायद चल रही है। नई पर्यटन नीति (rajasthan tourism policy)भी जल्द ही बनने की उम्मीद है। ऐसे में सरकार के बनाए रोड मैप के अनुसार काम हुआ तो पर्यटन व्यवसाय के साथ ही राज्य की अर्थव्यवस्था भी सुधरेगी। पर्यटन मंत्री(vishvendra singh) की माने तो सरकार पर्यटन(tourism) को बढ़ावा देने के लिए हरसंभव प्रयास कर रही है।

जयपुर। राज्य सरकार की नीतियों में पर्यटन(touism) व्यवसाय भी प्रमुखता से शामिल है। इसको लेकर नए सिरे से कवायद चल रही है। नई पर्यटन नीति (touism policy)भी जल्द ही बनने की उम्मीद है। ऐसे में सरकार के बनाए रोड मैप के अनुसार काम हुआ तो पर्यटन व्यवसाय के साथ ही राज्य की अर्थव्यवस्था भी सुधरेगी। पर्यटन मंत्री (Vishvendra Singh)की माने तो सरकार पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए हरसंभव प्रयास कर रही है।

यूनेस्को(UNESCO) के जयपुर की वॉल सिटी को वर्ल्ड हेरिटेज साइट (world heritage site)में शामिल करने से प्रदेश में पर्यटन व्यवसाय को लेकर नई उम्मीदें जगी हैं। उधर, पधारो म्हारे देश नए लोगो का मीडिया कैम्पेन करीब पांच करोड़ लोगों तक पहुंच चुका है। ऐसे में राज्य सरकार अब प्रदेश में पर्यटन को फ्रंट फुट पर लाने के प्रयासों में जुट गई है। पर्यटन मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने विधानसभा में पर्यटन की अनुदान मांगों के जवाब में यह बात कही। सदन ने 84 करोड़ 51 लाख 38 हजार रुपये की अनुदान मांगें ध्वनिमत से पारित कर दीं।

पर्यटन मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री ने अपने बजट भाषण में भी वालसिटी में व्हीकल फ्री हेरीटेज वाक प्रारम्भ करने की घोषणा की है, जिसका दूरगामी प्रभाव होगा। इससे न केवल पर्यटकों का जयपुर की विरासत के प्रति रुझान बढ़ेगा, वरन प्रदेश के अन्य हैरिटेज स्थलों की तरफ भी आकर्षण बढ़ेगा। पर्यटन मंत्री ने पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष दिसम्बर-2018 से मई-2019 तक दो करोड़ पैंतालीस लाख देशी-विदेशी पर्यटकों के राजस्थान आने को अपनी सरकार की उपलब्धि बताया। यह पिछले वर्ष आए एक करोड़ छप्पन लाख पर्यटकों से 57.05 प्रतिशत अधिक है।


सरकार का यह है रोड मैैप—
पर्यटन मंत्री ने सदन में बताया कि पर्यटन व्यवसाय को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने जन घोषणा पत्र में 14 एक्शन पाइंट निर्धारित किये हैं। इसमें राज्य की नवीन पर्यटन नीति को शीघ्र बनाकर जारी करना प्रमुख है। इस पर काम हो रहा है। इसमें सरकार पर्यटन से जुड़े सभी वर्टिकल जैसे इंफ्रास्टेक्चर, हेरिटेज, कौशल विकास, मार्केटिंग, नये पर्यटन उत्पाद, पर्यटक सुरक्षा, ईज इन एडमिनिस्टे्रटिव प्रोसीजर आदि बिन्दुओं का समावेश करने का प्रयास कर रही है। इनके साथ ही पर्यटन स्थलों पर ढांचागत सुविधाओं का विकास, साफ-सफाई, नये पर्यटन स्थलों को चिन्हित कर उनका विकास करना भी शामिल है। सरकार की मेला विकास प्राधिकरण का भी नए सिरे से पुनर्गठन करने की योजना है।

इससे बढ़ेगा राजस्थान में पर्यटन —
राज्य में वर्ष भर पर्यटकों की आवक रहे इस पर सरकार विशेष ध्यान दे रही है। इसके लिए भारत सरकार के पर्यटन मंत्रालय के सहयोग से आमेर आइकॉनिक प्रोजेक्ट, ट्राईबल सर्किट, डेजर्ट सर्किट, वाइल्ड लाइफ सर्किट, इको एडवेंचर को विकसित करने का प्रयास करने की योजना है।
आमेर आइकॉनिक प्रोजेक्ट के तहत विश्व धरोहर सूची में शामिल आमेर किले के अंदर व आस-पास विभिन्न विकास कार्य कराने का प्रस्ताव है। वहीं ट्राईबल सर्किट के अंतर्गत बांसवाड़ा, डूंगरपुर, प्रतापगढ़ जिलों के जनजाति बाहुल्य पर्यटक स्थलों पर पर्यटको को आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएगी। इसी प्रकार डेजर्ट सर्किट के अंतर्गत मरुस्थलीय क्षेत्रों जैसलमेर, बीकानेर, बाड़मेर के पर्यटक विकास कार्य चिन्हित कर इन्हें पूरा कराया जाएगा।

Show More
Neeru Yadav
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned