अब बिना बाधा के भीड़ से निकलेगी एंबुलेंस, 42 लाख की बजट राशि स्वीकृत

यातायात पुलिस ( Traffic Police ) के गोल्डन आवर्स ऐप ( Golden Hours App ) को सडक़ सुरक्षा कोष से 42 लाख रुपए की बजट राशि स्वीकृत हो गई है। यातायात पुलिस ने 5 फरवरी तक ऐप से संबंधित कंपनियों से प्रस्ताव मांगे हैं...

जयपुर। यातायात पुलिस ( Traffic Police ) के गोल्डन आवर्स ऐप ( Golden Hours App ) को सडक़ सुरक्षा कोष से 42 लाख रुपए की बजट राशि स्वीकृत हो गई है। यातायात पुलिस ने 5 फरवरी तक ऐप से संबंधित कंपनियों से प्रस्ताव मांगे हैं। इसके बाद जल्द टेंडर जारी कर इसे मरीजों को लाने ले जाने वाली एम्बुलेंस के लिए चालू कर दिया जाएगा।

उपायुक्त राहुल प्रकाश ने गत वर्ष ही जाम में फंसने वाली एम्बुलेंस को ग्रीन कॉरिडोर ( Green Corridor ) बनाकर अस्पताल तक पहुंचाने के लिए ऐप का प्रस्ताव सरकार को भेजा था। जिसमें बताया था कि यातायात नियंत्रण कक्ष को मोबाइल ऐप ‘गोल्डन आवर्स’ से जोड़ दिया जाएगा। यातायात पुलिस ऐप के जरिए एबुलेंस को अस्पताल पहुंचने के लिए जाम रहित रास्तों से होकर निकालेगी।

11 मार्गों पर लगेंगे कैमरे
ऐप के लिए शहर में आने व जाने वाले 11 मार्गों पर कैमरे लगाए जाएंगे। इससे हर वाहन पर यातायात पुलिस की नजर रहेगी। यातायात पुलिस के मुताबिक जयपुर में सवाई मानसिंह, कांवटिया, जयपुरिया सहित सरकारी और निजी स्तर पर करीब 200 अस्पताल हैं। इनमें विभिन्न इलाकों से एबुलेंस मरीजों को पहुंचाती है।

तीन तरह से काम करेगा ऐप
- अत्यधिक गंभीर मरीज के लिए रास्ता रोक दिया जाएगा
- गंभीर मरीज लाने वाली एबुलेंस के लिए सडक़ पर तैनात पुलिसकर्मियों के पास संदेश पहुंच जाएगा, वे रास्ता क्लीयर करवाएंगे।
- साधारण मरीज के लिए अलर्ट बटन पर नियंत्रण कक्ष पर तैनात पुलिसकर्मी एबुलेंस चालक को खाली मार्ग बताएंगे

अभी एम्बुलेंस, फिर दमकल
- गोल्डन आवर्स ऐप पहले एम्बुलेंस के लिए चालू किया जाएगा। लेकिन बाद में इसे अग्निशमन और पुलिस वाहनों के लिए भी उपयोग में लिया जा सकेगा।
राहुल प्रकाश, उपायुक्त, यातायात पुलिस

dinesh Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned