परिवहन मुख्यालय, आरटीओ कार्यालय के बीच फुटबॉल बने मोबाइल पॉल्युशन चैकिंग सेंटर

बीते माह आधा दर्जन सेंटरों के लाइसेंस गड़बड़ी के चलते किए निलंबित
निलंबन खत्म होने के बावजूद सेंटर पड़े हैं बंद
परिवहन आयुक्त से भी सेंटर संचालकों ने लगाई गुहार

जयपुर। जयपुर जिले में राजमार्गों व शहर के अन्य इलाकों में वाहनों की प्रदूषण जांच कर रहे मोबाइल प्रदूषण जांच केंद्रों पर परिवहन विभाग ने शिकंजा कस दिया है। बीते माह वाहनों की प्रदूषण जांच में गड़बड़ी करने की शिकायतों के बाद विभाग ने शहर में संचालित करीब आधा दर्जन सेंटरों के लाइसेंस निलंबित कर दिए। निलंबन समय खत्म होने के बावजूद विभाग ने संबंधित सेंटरों को चालू नहीं किया है।
मोबाइल प्रदूषण जांच सेंटरों के संचालकों के अनुसार सेंटर से वाहन प्रदूषण जांच में गड़बड़ी करने पर सेंटर का लाइसेंस निलंबित करने व जुर्माना लगाने का प्रावधान परिवहन विभाग के नियमो में है। बीते माह विभाग ने तीन सेंटरों का लाइसेंस निलंबित कर दिया वहीं दूसरी तरफ अन्य सेंटरों की हुई सघन जांच में कुछ और सेंटर निलंबित किए गए। निलंबन अवधि पूरी होने के बाद भी सेंटर चालू नहीं होने पर सेंटर संचालक झालाना आरटीओ से मिले जहां उन्हे सेंटर चालू होने की बात कही गई। वहीं निलंबन मामले में सेंटर संचालकों ने परिवहन आयुक्त राजेश यादव को भी ज्ञापन दिया लेकिन अब तक आधा दर्जन से ज्यादा सेंटर बंद पड़े हैं। सेंटर संचालकों ने अब मामले में परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास को ज्ञापन देने की बात कही है। दूसरी ओर वाहनों की प्रदूषण जांच के लिए रील कंपनी ने सॉफ्टवेयर तैयार किया है और रील कंपनी के अफसरों ने परिवहन विभाग से स्वीकृति पत्र लाने पर ही सॉफ्टवेयर का लॉक खोलने की बात सेंटर संचालकों से कही है।

anand yadav
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned