scriptTulshi plant help in fighting with breast cancer | तुलसी का अणु, खत्म करेगा स्तन कैंसर का परमाणु | Patrika News

तुलसी का अणु, खत्म करेगा स्तन कैंसर का परमाणु

राजस्थान में कैंसर मरीजों के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी है। तुलसी पौधे में एक ऐसा तत्व पाया गया है जो न केवल कैंसर कोशिका तक पहुंच प्रकिया रोक देगा बल्कि उसे धीरे धीरे खत्म भी कर देगा। गौरतलब है कि भारत में हर साल 20 लाख और राजस्थान में एक लाख कैंसर रोगी हर साल जुड़ रहे हैं। सबसे ज्यादा ही 40% मरीज प्रदेश की राजधानी जयपुर से ही आ रहे हैं।

जयपुर

Published: April 25, 2022 04:37:57 pm

मैं तुलसी तेरे आंगन की...। यह केवल अब गीत नहीं बल्कि कैंसर से बचने के लिए सबसे उम्दा उपाय भी है। राजस्थान में कैंसर मरीजों के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी है। तुलसी पौधे में एक ऐसा तत्व पाया गया है जो न केवल कैंसर कोशिका तक पहुंच प्रकिया रोक देगा बल्कि उसे धीरे धीरे खत्म भी कर देगा। गौरतलब है कि भारत में हर साल 20 लाख और राजस्थान में एक लाख कैंसर रोगी हर साल जुड़ रहे हैं। सबसे ज्यादा ही 40% मरीज प्रदेश की राजधानी जयपुर से ही आ रहे हैं। कैंसर जागरूकता की कमी के चलते इन रोगियों की पहचान,इलाज और जान बचाना और मुश्किल होता जा रहा है। शहर में बदली हुए दिनचर्या सबसे ज्यादा परेशानी पैदा कर रही है।
brest_cancer.jpg
कैंसर से बचाएगी तुलसी

तमिलनाडू के तिरूचि में हुए एक शोध में तुलसी को कैंसर रोधी पाया गया है। भारतीय शोधार्थी की इस खेज को पेंटेंट दिया है। सेंट जोसेफ कॉलेज के डॉ सेंथिल कुमार के मार्ग दर्शन में शोधार्थी आशा मोनिको ने इस अणु की पहचान की है। भारतीय चिकित्सा में रचे बसे तुलसी के पौधे में एक चमत्काारिक तत्व की पहचान हुई है।
स्तन कैंसर पर प्रभावी रहा तुलसी अणु

वनस्पति विभाग के डॉ सेंथिल कुमार ने बताया कि उन्होंने तुलसी के पौधे से एक बेहद प्रभावी अणु की पहचान कर उसके निकाला। इसके बाद उसे स्तान कैंसर कोशिका तक पहुंचाया गया। इस शोध के दौरान पाया गया कि अणु ने स्तन कैंसर कोशिका के विकास को रोक दिया। यह देश के लिए बहुत बड़ी सफलता है।
सुलभ और सस्ती होगी तुलसी दवा
शोधार्थी आशा मोनिका ने शोध की जानकारी देते हुए बताया किया कि वह तमिलनाडु में ही उगाए गए तुलसी के पौधों से अणु एकत्र करके उनका और विश्लेषण कर रही हैं। कई बार यही अणु कई अन्य जगहों से लेने पर परिणाम और भी बेहतर देते हैं। आशा है कि इससे कैंसर की सस्ती दवा उत्पादन में मदद मिलेगी।

राजस्थान में सबसे ज्यादा ओरल कैंसर

राजस्थान में कैंसर तेजी से अपने पैर पसार रहा है। इनमें सबसे ज्यादा करीब 50% मरीज ओरल कैंसर (मुंह, गले और खाने की नली), लंग्स, ब्रेस्ट और बच्चेदानी के कैंसर से जुड़े मामले होते हैं। कैंसर की चपेट में आने वालों में पुरुषों से ज्यादा महिला मरीज हैं।
स्तन कैंसर सबसे सामान्य
विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक स्तन कैंसर अब सबसे सामानय कैंसर बन गया है। यह महिला और पुरूषों दोनों में ही हो रहा है। 20 साल पहले तक फेफड़े का कैंसर सबसे आम था, लेकिन अब यह दूसरे पायदान पर है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के कैंसर एक्सपर्ट आन्द्रे इलबावी कहते हैं 2020 में स्तन कैंसर के दुनिया में 23 लाख मामले सामने आए जो कुल मामलों का 12 फीसदी है। सबसे ज्यादा महिलाओं में स्तन कैंसर पाया जा रहा है। तीसरे पायदान पर कोलोरेक्टल कैंसर है
newsletter

Anand Mani Tripathi

आनंद मणि त्रिपाठी राजस्थान पत्रिका में राजनीति, अपराध, विदेश, रक्षा एवं सामरिक मामलों के पत्रकार हैं। पत्रकारिता के तीनों माध्यम प्रिंट, टीवी और आनलाइन में गहरा और अपनी तेज तर्रार रिपोर्टिंग के लिए जाने जाते हैं। पश्चिम बंगाल के कलकत्ता में जन्म हुआ। प्रारंभिक शिक्षा उत्तर प्रदेश के कानपुर और बस्ती में हुई। माध्यमिक शिक्षा नवोदय विद्यालय बस्ती, फैजाबाद और पूर्वोत्तर त्रिपुरा के धलाई जिले में हुई। अयोध्या के साकेत महाविद्यालय से स्नातक और 2009 में जेआईआईएमसी,दिल्ली से पत्रकारिता का डिप्लोमा किया। हरियाणा से पत्रकारिता आरंभ की। शिक्षा, विज्ञान, मौसम, रेलवे, प्रशासन, कृषि विभाग और मंत्रालय की रिपोर्टिंग की। इंवेस्टिगेटिव रिपोर्टिंग से शिक्षा और रेलवे विभाग के कई भ्रष्टाचार का खुलासा किया। रक्षा मंत्रालय के रक्षा संवाददाता पाठयक्रम-2016 पूरा किया। इसके बाद रक्षा मामलों की पत्रकारिता शुरू कर दी। चीन, पाकिस्तान और कश्मीर मामलों पर तीक्ष्ण नजर रहती है। लेफ्टिनेंट उमर फैयाज की हत्या 2017, राइफलमैन औरंगजेब की हत्या 2018, जम्मू—कश्मीर में बदले 2018 में बदले राजनीतिक समीकरण, पुलवामा हमला 2019, कश्मीर से 370 का हटना, गलवान घाटी मुठभेड़ 2020 को बेहद करीब से जम्मू और कश्मीर में रहकर ही कवर किया। कोरोना काल 2020 में भी लददाख से नेपाल तक की यात्रा चीन के बदलते समीकरण को लेकर की। इसके साथ ही लोकसभा चुनाव 2019 में जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और पंजाब की रिपोर्टिंग की। 9 नवंबर 2019 को श्रीराम जन्म भूमि अयोध्या मामले में आए फैसले की अयोध्या से कवर किया। 2022 उत्तरप्रदेश् चुनाव को सहारनपुर से सोनभद्र तक मोटर साइकिल के माध्यम से कवर किया। पत्रकारिता से इतर आनंद मणि त्रिपाठी को संगीत और पर्यटन का जबरदस्त शौक है। इन्हें किसी भी कार्य में असंभव शब्द न प्रयोग करने के लिए जाना जाता है...

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

Amarnath Yatra: सभी यात्रियों का 5 लाख का होगा बीमा, पहली बार मिलेगा RIFD कार्ड, गृहमंत्री ने दिए कई अहम निर्देशवाराणसी कोर्ट में का फैसला: अजय मिश्रा कोर्ट कमिश्नर पद से हटे, सर्वे रिपोर्ट पर सुनवाई 19 मई को, SC ने ज्ञानवापी पर हस्तक्षेप से किया इंकारGyanvapi: श्रीलंका जैसे हालात दे रहे दस्तक, इसलिए उठा रहे ज्ञानवापी जैसे मुद्दे-अजय माकनCBI Raid के बाद आया केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम का बयान - 'CBI को रेड में कुछ नहीं मिला, लेकिन छापेमारी का समय जरूर दिलचस्प'कोरोना के कारण गर्भपात के केस 20% बढ़े, शिशुओं में आ रही विकृतिRajya Sabha polls: कौन है संभाजी राजे जिनको लेकर महाविकस आघाडी और बीजेपी में बढ़ा आंतरिक मतभेदतालिबान ने अफगानिस्तान में खत्म किया मानवाधिकार आयोग, कहा- 'गैर-जरूरी संस्थाओं के लिए फंड नहीं'Consumer Court का फैसला : पार्किंग के सात रुपए वसूले थे अवैध, अब निगम और ठेकेदार भुगतेंगे 8-8 हजार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.