scriptTwins born from embryos frozen 30 years ago | 30 साल से जमे भ्रूण के दिन फिरे, दुनिया में आए जुड़वां बच्चे | Patrika News

30 साल से जमे भ्रूण के दिन फिरे, दुनिया में आए जुड़वां बच्चे

locationजयपुरPublished: Nov 24, 2022 07:51:18 am

Submitted by:

Aryan Sharma

मेडिकल महान : अमरीकी दंपती बने माता-पिता, अपने किस्म के नए रेकॉर्ड का दावा
1992 से -128 सेल्सियस तापमान पर रखा था तरल नाइट्रोजन में

30 साल से जमे भ्रूण के दिन फिरे, दुनिया में आए जुड़वां बच्चे
30 साल से जमे भ्रूण के दिन फिरे, दुनिया में आए जुड़वां बच्चे
वॉशिंगटन. अमरीका में 30 साल से फ्रीज कर रखे गए भ्रूण से एक दंपती जुड़वां बच्चों के माता-पिता बन गए हैं। भ्रूण 22 अप्रेल, 1992 से -128 सेल्सियस तापमान पर तरल नाइट्रोजन में स्टोर कर रखा गया था। दावा किया जा रहा है कि सबसे लंबे समय तक फ्रीज कर रखे गए भ्रूण से जिंदा बच्चों के जन्म का यह नया रेकॉर्ड है।
बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक अमरीका के ऑरेगॉन में चार बच्चों की मां रेचल रिजवे ने इन जुड़वां बच्चों को जन्म दिया। इनमें एक लड़का और एक लड़की है। लड़की का नाम लिडिया, जबकि लड़के का टिमोथी रखा गया है। जन्म के समय इनका वजन क्रमश: 2.5 और 2.92 किलोग्राम था। रेचल रिजवे अपने पति फिलिप रिजवे के साथ अमरीका के नेशनल एंब्रियो डोनेशन सेंटर (एनईडीसी) पहुंची थी। इस जोड़े की मांग थी कि उन्हें वही भ्रूण चाहिए, जो सबसे लंबे समय से जन्म का इंतजार कर रहा हो। जुड़वां बच्चों के जन्म के बाद फिलिप ने कहा, 'यह किसी कमाल से कम नहीं है।' सबसे लंबे समय तक जमे भ्रूण से बच्चे के जन्म का पिछला रेकॉर्ड भी 2020 में एनईडीसी ने बनाया था। तब 27 साल से जमे भ्रूण से मॉली गिब्सन नाम के बच्चे ने जन्म लिया था। एनईडीसी से दान में मिले भ्रूण की मदद से अब तक 1,200 से ज्यादा बच्चे जन्म ले चुके हैं।
अमरीका में 15-30 लाख जमे हुए भ्रूण
एनईडीसी के मेडिकल डायरेक्टर डॉक्टर जॉन डेविड गॉर्डन के मुताबिक अमरीका में 15 से 30 लाख भ्रूण जमा कर रखे गए हैं। जब लोग आइवीएफ तकनीक अपनाते हैं तो इस प्रक्रिया में जरूरत से ज्यादा भ्रूण बन सकते हैं। अतिरिक्त भ्रूण भविष्य में इस्तेमाल के लिए तरल नाइट्रोजन में जमा दिए जाते हैं। इनमें से कुछ रिप्रोडक्टिव मेडिसिन पर रिसर्च और ट्रेनिंग के लिए, जबकि कुछ उन लोगों को दान कर दिए जाते हैं, जो बच्चे चाहते हैं।
गुमनाम दंपती ने किया था दान
तीस साल से जमे जिस भ्रूण से जुड़वां बच्चों का जन्म हुआ है, उसे एक गुमनाम दंपती ने दान किया था। दूसरे मानव अंगों के दान की तरह भ्रूण के दान के लिए भी अमरीका के फूड-ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन के नियमों का पालन जरूरी है। दान से पहले जांच होती है कि भ्रूण में कोई संक्रामक रोग तो नहीं है। अमरीका में जमे हुए नए भ्रूणों की मांग ऐसे पुराने भ्रूणों से ज्यादा है।

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

'गद्दार' विवाद के बाद पहली बार गहलोत और पायलट का हुआ आमना-सामना, देखें वीडियोगौतम अडानी ग्रुप को मिला धारावी रिडेवलपमेंट प्रोजेक्ट, 5 हजार करोड़ की लगाई थी बोलीगुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण का प्रचार आज खत्म, 1 दिसम्बर को होगी वोटिंगउड़नपरी की एक और बड़ी उड़ानः भारतीय ओलंपिक संघ की पहली महिला अध्यक्ष बनीं पीटी उषासीएम की बहन व YSRTP प्रमुख वाईएस शर्मिला पुलिस हिरासत में, क्रेन से खींची कारगुजरात चुनाव में भाजपा के सबसे अधिक उम्मीदवार हैं करोड़पति, दूसरे पर कांग्रेसआरबीआई एक दिसंबर को लॉन्च करेगा रिटेल डिजिटल रुपयाGujarat Election 2022 : अहमदाबाद जिले में 2044 दिव्यांग एवं बुजुर्गों ने किया मतदान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.