Rajasthan Text Book Syllabus Change: पाठ्यक्रम में बदलाव के मुद्दे पर दो मंत्री आमने-सामने

Sanjay Kaushik

Publish: May, 18 2019 01:14:56 AM (IST) | Updated: May, 18 2019 12:00:11 PM (IST)

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

राजस्थान में पाठ्यपुस्तकों में बदलाव(rajasthan text book syllabus change) के मुद्दे पर प्रदेश की कांग्रेस सरकार(Rajasthan Congress Governement ) के ही दो मंत्रियों ने एक दूसरे की राय के विपरित बयान जारी किए हैं। राजस्थान में पाठ्यपुस्तकों को लेकर विवाद (rajasthan textbook controversy ) नया नहीं है। प्रदेश में पिछली दो बार से भाजपा और कांग्रेस सरकारों में बदलाव के साथ ही पाठ्यपुस्तकों के पाठ्यक्रम में बदलाव की कवायद भी शुरू हो जाती है। सामान्यतया ऐसे में भाजपा और कांग्रेस के नेताओं में ही एक दूसरे के खिलाफ बयानबाजी होती रही है। इस बार राजस्थान में इतिहास की किताब (rajasthan history textbook) के कवर पर से जौहर के चित्र को हटाने को लेकर विवाद इस कदर गहरा गया है कि कांग्रेस (congress) में ही आपस में दरार डलती नजर आ रही है और प्रदेश के शिक्षामंत्री गोविंद सिंह डोटासरा के सामने प्रदेश के परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास ने मोर्चा खोल दिया है।

दे रहे हैं अपने अपने तर्क

जहां एक ओर शिक्षा मंत्री डोटासरा किताब से जौहर के चित्र को हटाने को उचित ठहराते हुए कहते हैं कि माता-बहनों को आग में कूदने का पाठ बच्चों को पढ़ाना उचित नहीं है। वे किताबों में हो रहे अन्य बदलावों पर पूर्ववर्ती भाजपा सरकार पर संघ विचारधारा के मुताबिक बदलाव करने ( inspired by the rss dictated by bjp minister the inside story of rajasthan's textbook revisions) का आरोप भी दोहराते रहे हैं। वहीं परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास का कहना है कि सती एवं जौहर में अंतर समझने की जरूरत है। उनके समर्थन में चित्तौड़गढ़ से कांग्रेस के लोकसभा प्रत्याशी गोपाल सिंह ईडवा भी उतर आए हैं और उन्होंने भी कहा है कि जौहर साहस की घटना है इसे सती प्रथा से नहीं जोड़ा जाना चाहिए।

बढ़ता आपसी अंतर्विरोध
राज्य में स्कूली पाठ्यक्रम में बदलाव को लेकर सत्तारूढ़ पार्टी में ही अंतर्विरोध सामने आ रहा है तथा जौहर के मुद्दे पर शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा एवं परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास आमने-सामने हो गए हैं। स्कूली पाठ्यक्रम में जौहर के चित्र को हटाने पर शिक्षा मंत्री गोेविंद सिंह डोटासरा ने स्पष्ट किया है कि माता-बहनों को आग में कूदने का पाठ बच्चों को पढ़ाना उचित नहीं है, जिस पर खाचरियावास ने आपत्ति जताते हुए कहा कि शिक्षा मंत्री को सती एवं जौहर में अंतर समझना चाहिए। उन्होंने कहा कि ऐतहासिक तथ्यों के साथ किसी भी दल की सरकार को छेड़छाड़ नहीं करना चाहिए। चित्तौडग़ढ़ से कांग्रेस उम्मीदवार गोपाल सिंह ईडवा ने भी पाठ्यक्रम में बदलाव के निर्णय पर एतराज उठाते हुए कहा है कि जौहर एक ऐतिहासिक और वीरांगनाओं के साहस की घटना थी, जिसे सती प्रथा से नहीं जोडऩा चाहिए।

सरकारों के बदलने के साथ ही राजस्थान में पाठ्य पुस्तकों में बदलाव (rajasthan text book syllabus change) एक रूटीन बनता जा रहा है।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned