scriptUdaipur kanahiya lal murder could not be handiwork of terror gang: NIA | Udaipur Murder: आरोपियों को लेकर एनआईए ने किया बड़ा खुलासा, बढ़ी राजस्थान पुलिस की मुश्किल | Patrika News

Udaipur Murder: आरोपियों को लेकर एनआईए ने किया बड़ा खुलासा, बढ़ी राजस्थान पुलिस की मुश्किल

नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (एनआइए) की जांच में बड़ा खुलासा, राजस्थान पुलिस के दावे निराधार साबित

जयपुर

Published: June 30, 2022 09:41:29 pm

जयपुर. उदयपुर में टेलर कन्हैयालाल की निर्मम हत्या के मामले में राजस्थान पुलिस की अब तक की पड़ताल और सरकार के दावे नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (एनआइए) की जांच में निराधार साबित होते दिख रहे हैं। एनआइए के मुताबिक प्रारंभिक पड़ताल में सामने आया है कि संभवत: इस हत्याकांड में कोई आतंककारी संगठन शामिल नहीं है, बल्कि क्षेत्र में खौफ फैलाने के लिए किसी गैंग ने ऐसा किया।
Udaipur Murder

ऐसे में राजस्थान पुलिस का बुधवार का वह दावा खारिज होता दिख रहा है, जिसमें उसने हत्या के आरोपियों के संबंध पाकिस्तान से जुड़े होने की जानकारी दी थी। राजस्थान के पुलिस महानिदेशक एम.एल. लाठर ने बुधवार की प्रेस वार्ता में दावा किया था आरोपी गौस मोहम्मद कराची होकर आया था। हालांकि पुलिस को यह जानकारी कब मिली, इस बात का कोई स्पष्ट जवाब नहीं है।

एनआइए ने यह भी कहा है कि हत्या में शामिल समूह में सिर्फ दो ही लोग नहीं हैं। बल्कि 10-12 और लोग इस नृशंस हत्याकांड की साजिश में शामिल हैं। ऐसे में अब यह सवाल भी उठने लगा है कि फिर उदयपुर पुलिस ने कन्हैयालाल हत्याकांड की प्रारंभिक एफआईआर में धारा 120 (बी) अर्थात षड्यंत्र का पहलू अब तक क्यों नजरअंदाज किया।

एनआइए ने इस प्रकरण में अब गौस मोहम्मद और रियाज अख्तरी के खिलाफ हत्या और खौफ फैलाने के मामले में एफआइआर दर्ज की है। इसके अनुसार दोनों कातिलों ने खौफ और अपना दबदबा कायम करने के लिए कन्हैयालाल की हत्या की। खौफ कायम करने के मकसद से ही वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर साझा भी किया।

एनआइए ने अब तक राजस्थान पुलिस की एसआइटी के सहयोग से कातिलों से पूछताछ की। अब दोनों कातिलों को एनआइए न्यायिक अभिरक्षा से गिरफ्तार करके पूछताछ करेगी। फिलहाल एनआइए ने राजस्थान में रखकर कातिलों से पूछताछ करने का निर्णय किया है।

यह फर्क: आतंकी व दहशत गिरोह में
राजस्थान पुलिस के एक आला अफसर ने बताया कि आतंकी ग्रुप हमेशा भीड़ वाले क्षेत्रों में लोगों को टारगेट करते हैं, ताकि अधिक से अधिक लोगों को नुकसान पहुंचा सके। जबकि उदयपुर में कन्हैयालाल की हत्या दहशत गिरोह का काम है। इनका उद्देश्य केवल दहशत फैलाना था और इसलिए कन्हैयालाल को टारगेट किया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Independence Day 2022: लालकिला छावनी में तब्दील, जमीन से आसमान तक काउंटर-ड्रोन सिस्टम से निगरानी14 अगस्त को 'विभाजन विभिषिका स्मृति दिवस' मनाने पर कांग्रेस का BJP पर हमला, कहा- नफरत फैलाने के लिए त्रासदी का दुरुपयोगOne MLA-One Pension: कैप्टन समेत पंजाब के इन बड़े नेताओं को लगेगा वित्तीय झटकाइसलिए नाम के पीछे झुनझुनवाला लगाते थे Rakesh Jhunjhunwala, अकूत दौलत के बावजूद अधूरी रह गई एक ख्वाहिशRakesh Jhunjhunwala Net Worth: परिवार के लिए इतने पैसे छोड़ गए राकेश झुनझुनवाला, एक दिन में कमाए थे 1061 करोड़हर घर तिरंगा अभियान CM योगी ने झंडा लगाकर की शुरुआतपिता ने नहीं दिए पैसे, फिर भी मात्र 5000 के निवेश से कैसे शेयर बाजार के किंग बने राकेश झुनझुनवालासिर पर टोपी, हाथों में तिरंगा; आजादी का जश्न मनाते दर्जनों मुस्लिम बच्चों का ये वीडियो कहां का है और क्यों वायरल हो रहा है?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.