RIP Suresh Angadi: ‘रुखसत’ होने से पहले Jaipur Junction को दे गए 10 में से 10 नंबर, क्या पता था रहेगा आखिरी दौरा

नहीं रहे केंद्रीय रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी, 11 सिंतबर को पाए गए थे कोरोना पॉजिटिव, दिल्ली एम्स में चल रहा था इलाज, कोरोना से जान गंवाने वाले पहले केंद्रीय मंत्री, तीन सांसदों का हो चुका है कोरोना से निधन, इसी साल जनवरी माह में आये थे जयपुर, जयपुर रेलवे स्टेशन का दौरा कर दिए थे कई सवालों के जवाब, एमएनआईटी दीक्षांत समारोह में रहे विशिष्ट अतिथि

 

By: nakul

Published: 24 Sep 2020, 09:45 AM IST

जयपुर।

केंद्रीय रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी इस दुनिया से रुखसत होने से पहले राजधानी जयपुर के मुख्य रेलवे स्टेशन को 10 में से 10 अंक दे गए। इसी साल के जनवरी माह में जयपुर जंक्शन रेलवे स्टेशन का दौरा करने के बाद उन्होंने इसकी तारीफों के पुल बांध दिए थे। अंगड़ी यहाँ की व्यवस्थाओं से इतने संतुष्ट और खुश नज़र आये थे कि उन्होंने इसे देश के लिए मॉडल तक करार दे दिया था। लेकिन किसे पता था कि जयपुर में ये उनका आखिरी दौरा रहेगा।

जब जयपुर पहुँचते ही जता दी कोई स्टेशन देखने की इच्छा
केंद्रीय रेल राज्यमंत्री रहते हुए सुरेश अंगड़ी 19 जनवरी को जयपुर दौरे पर रहे। वे यहां एमएनआईटी विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में शामिल होने पहुंचे थे। लेकिन यहाँ पहुँचते ही उन्होंने जयपुर के किसी भी एक रेलवे स्टेशन का जायजा लेने की इच्छा जता दी। ऐसे में उत्तर पश्चिम रेलवे के अधिकारियों ने मंत्री अंगड़ी को जयपुर के मुख्य रेलवे स्टेशन दिखाना उचित समझा। इसके बाद वे इसी दिन शाम 5 बजे जयपुर रेलवे स्टेशन का जायजा लेने पहुंचे।

जयपुर स्टेशन की जमकर की तारीफ
जयपुर रेलवे स्टेशन का जायजा लेने के बाद सुरेश अंगड़ी ने स्टेशन की जमकर तारीफ की। स्टेशन की व्यवस्थाओं और सुविधाओं को देखने के बाद प्रेस कांफ्रेंस में संतुष्टि और ख़ुशी जताई। उन्होंने जयपुर जंक्शन को वर्ल्ड क्लास स्टेशन बताते हुए 10 में से 10 नंबर दिए। उत्तर पश्चिम रेलवे का ये कहते हुए हौंसला बढाया कि पूरे देश में जयपुर जंक्शन मॉडल लागू होना चाहिए।

यात्रियों से भी की थी बात, जानें थे हाल
निरीक्षण के दौरान अंगड़ी ने यात्रियों से खुद बात करते हुए स्टेशन की व्यवस्थाओं पर फीडबैक लिया था। इस पर रेलवे स्टेशन पर मौजूद यात्रियों ने जयपुर स्टेशन को अन्य स्टेशनों की तुलना में काफी सराहा था। एक असम की यात्री ने ये तक कह डाला था कि हमारे उधर भी इस तरह की रेलवे स्टेशनों पर सुविधाएं उपलब्ध करायें और वहां के रेलवे स्टेशनों का भी दौरा करें। अंगड़ी ने जयपुर जंक्शन पर अजमेर-दिल्ली शताब्दी ट्रेन अन्दर जाकर यात्री सुविधाओं में बढ़ोतरी के लिए यात्रियों से फीडबैक भी लिया था।

Union Minister Suresh Angadi dies, visited Jaipur Railway Station

रेलवे निजीकरण पर भी दे गए थे जवाब
रेल निजीकरण को लेकर चल रहे गतिरोध पर भी अंगड़ी ने जयपुर दौरे के दौरान मोदी सरकार की मंशा साफ़ की। उन्होंने कहा था किसी रेल अधिकारी-कर्मचारी को घबराने की ज़रूरत नहीं है। रेल का निजीकरण यात्रियों को क्वालिटी यात्रा देने के लिए किया जा रहा है। उत्तर पश्चिम रेलवे की रेलें निजी हाथों में कब जाएंगी इसका जवाब देते हुए उन्होंने कहा था कि उन्हें अच्छे इनवेस्टमेंट का इंतज़ार है।

उन्होंने कहा था कि अगले 10 साल में रेलवे पर 50 लाख करोड़ का इंवेस्टमेंट होगा। निजीकरण ट्रेन होने से रेलवे को आमदनी, यात्रियों को सुविधाएं और बेरोजगारों को रोज़गार मिलेगा। वहीं रेलवे को आय में फायदा होगा।

nakul Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned