Vinayak Chaturthi मनोकामना की पूर्ति के लिए सबसे अच्छा व्रत, विश्वासपूर्वक की गई पूजा से जरूर मिलता है गणेशजी का आशीर्वाद

18 दिसंबर 2020 यानि शुक्रवार को मार्गशीष माह की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि है। इस दिन विनायक चतुर्थी व्रत रखकर गणेशजी की पूजा का विधान है। पुराणों में इस व्रत का बहुत महत्व बताया गया है। विनायक चतुर्थी व्रत के प्रभाव से सौभाग्य बढता है और दांपत्य जीवन सुखी होता है। विनायक चतुर्थी को वरद विनायक चतुर्थी भी कहा जाता है।

By: deepak deewan

Published: 18 Dec 2020, 08:50 AM IST

जयपुर. 18 दिसंबर 2020 यानि शुक्रवार को मार्गशीष माह की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि है। इस दिन विनायक चतुर्थी व्रत रखकर गणेशजी की पूजा का विधान है। पुराणों में इस व्रत का बहुत महत्व बताया गया है। विनायक चतुर्थी व्रत के प्रभाव से सौभाग्य बढता है और दांपत्य जीवन सुखी होता है। विनायक चतुर्थी को वरद विनायक चतुर्थी भी कहा जाता है। किसी मनोकामना की पूर्ति के लिए भगवान से आशीर्वाद प्राप्त करने को वरद कहते हैं। इस प्रकार मनोकामना पूर्ति के लिए इस दिन व्रत और गणेशजी की पूजा करना श्रेष्ठ माना जाता है।

विनायक चतुर्थी व्रत के लिए उपवास का दिन सूर्योदय और सूर्यास्त के समय व स्थिति पर निर्भर करता है। ज्योतिषाचार्य पंडित सोमेश परसाई बताते हैं कि विनायक चतुर्थी का व्रत उस दिन किया जाता है जिस दिन मध्याह्न काल के दौरान चतुर्थी तिथि प्रबल हो। यही कारण है कि प्रायः विनायक चतुर्थी का व्रत चतुर्थी से एक दिन पूर्व तृतीया तिथि के दिन ही पड़ जाता है। चंूकि सभी शहरों के लिए सूर्योदय और सूर्यास्त के आधार पर मध्याह्न काल अलग-अलग होता है इसीलिए विनायक चतुर्थी के व्रत के निर्धारण में गफलत होती रहती है।

व्यापारियों के लिए यह दिन बहुत अहम होता है। व्यापार के कारक बुध देव हैं जोकि गणेश पूजा से प्रसन्न होते हैं इसलिए व्यापार-व्यवसाय से संबंधित लोगों को यथासंभव यह व्रत रखकर गणेश पूजा जरूर करना चाहिएै। इस दिन सुबह उठकर स्नान कर गणेशजी का ध्यान करते हुए व्रत और पूजा का संकल्प लें। शुभ मुहूर्त में गणेशजी की विधिविधान से पूजा करें। गणेशजी को दूर्वा अर्पित करें पर तुलसी न चढाएं. इस दिन गणपति अथर्वशीर्ष पथ का पाठ अवश्य करें। ज्योतिषाचार्य पंडित एमके शर्मा बताते हैं कि विनायक चतुर्थी पर विश्वासपूर्वक की गई पूजा से गणेशजी का आशीर्वाद अवश्य प्राप्त होता है।

शुक्रवार 18 दिसंबर 2020 विनायक चतुर्थी पूजा मुहुर्त
चतुर्थी तिथि अपराह्न 02 बजकर 23 मिनट तक ।
पूजा मुहूर्त सुबह 11.16 बजे से दोपहर 1.20 बजे तक ।

Show More
deepak deewan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned