शिक्षा नीति पर अभियान शुरू करेगा विद्या भारती


25 सितंबर से होगी शुरुआत
शिक्षा नीति के तहत सुधारों के पैमाने और प्रभाव पर होगी चर्चा
ऑनलाइन आयोजित की जाएगी प्रतोयोगिता

5 अक्टूबर को होगी विजेताओं की घोषणा
हर प्रतियोगी को दिया जाएगा एक भागीदारी प्रमाणपत्र

By: Rakhi Hajela

Updated: 07 Sep 2020, 06:26 PM IST

विद्या भारती राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर देशव्यापी जागरूकता अभियान शुरू करने जा रही है । इस अभियान की शुरुआत 25 सितंबर से की जाएगी और इसका समापन 2 अक्टूबर को होगा ।राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत सुधारों के दायरे पैमाने और प्रभाव पर व्यापक चर्चा के अलावा प्रतियोगिता भी होगी । 25 सितंबर से 2 अक्टूबर तक सोशल मीडिया और वेबसाइट MyNEP पर लोकप्रिय और आकर्षक प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएंगी । विद्या भारती राजस्थान संगठन मंत्री शिव प्रसाद ने बताया कि प्रतियोगिता 13 भाषाओं में चार विषय पर आयोजित की जाएगी जैसे भारत केंद्रित समग्र शिक्षा ज्ञान आधारित समाज और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा। इस प्रतियोगिता को तीन भागों में बांटा गया है। कक्षा 9 से पहले कक्षा 9 से 12वीं तक पहली श्रेणी दूसरी स्नातक श्रेणी और तीसरी नागरिक श्रेणी हर रैली में विजेताओं को आकर्षक पुरस्कार प्रदान किए जाएंगे और हर प्रतिभागी को एक भागीदारी प्रमाण पत्र प्राप्त होगा। प्रतियोगिता के तहत हस्तनिर्मित पेंटिंग, मीम मेकिंग , प्रधानमंत्री को पत्र लेखन, भाषण प्रतियोगिता , निबंध प्रतियोगिता लघु फिल्म निर्देशन और निर्माण डिजिटल डाटा डिजाइनिंग डिजाइनिंग और टि्वटर रचनाएं जैसी प्रतियोगिता आयोजित की जाएंगी इन प्रतियोगिताओं के अलावा राष्ट्रीय शिक्षा नीति के विभिन्न पहलुओं पर एक इंटरएक्टिव क्विज भी ऑनलाइन आयोजित होगी। विजेताओं के नाम 5 अक्टूबर को घोषित किए जाएंगे शिव प्रसाद ने बताया कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति अपने आप में राष्ट्रीय शिक्षा नीति अपने आप में एक व्यापक लोकतांत्रिक भागीदारी का परिणाम है , इसलिए शिक्षा नीति को लेकर जागरूकता अभियान युवा स्वयंसेवकों की ओर से चलाया जाएगा , विद्या भारती राजस्थान के अध्यक्ष प्रोफेसर भारत राम कुमार ने कहा, हमारे जागरूकता अभियान में ज्यादा भागीदारी हो इसलिए एनडीपी थीम वाले प्रतियोगियों की श्रंखला शामिल है जिसमें विद्यालय और कॉलेज शिक्षक भाग ले सकते हैं । उनका कहना था कि एनईपी ने सीखने के सकारात्मक परिणामों के लिए शिक्षा के प्राथमिक माध्यम के रूप में मातृभाषा की सिफारिश की है । इसी को ध्यान में रखते हुए पप्रतियोगिताएं विविध क्षेत्रीय भाषाओं के पृष्ठभूमि के छात्रों तक पहुंचने के लिए हिंदी अंग्रेजी के साथ साथ अन्य 13 भाषाओं में आयोजित होंगी । इस अवसर पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद जयपुर प्रांत के संगठन मंत्री अर्जुन तिवारी सुखबीर सिंह गढ़वाल और प्रांत सचिव अशोक कुमार पारीक तथा निरीक्षक राम मनोहर शर्मा उपस्थित थे।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned