तीनों टाइगर रिजर्व में गांव विस्थापन प्रक्रिया शीघ्र की जाएगी पूरी : वन मंत्री

मुकुंदरा टाइगर रिजर्व में प्रे बेस बढ़ाने पर जोर

सरिस्का में खोले जाएंगे नए टूरिज्म रूट्स

By: Rakhi Hajela

Published: 24 Dec 2020, 10:59 PM IST


मुकुंदरा में प्रे बेस बढ़ाने के बाद ही वहां टाइगर की शिफ्टिंग की प्रक्रिया पूरी की जाएगी। यह निर्णय गुरुवार को वन मंत्री सुखराम बिश्नोई की अध्यक्षता में टाइगर फाउंडेशन की बैठक में लिया गया। बैठक में मुकुंदरा टाइगर रिजर्व को लेकर वहां के फील्ड डायरेक्टर सेडूराम यादव ने प्रजेंटेशन दिया और वहां प्रे.बेस बढ़ाने पर जोर दिया गया। इस दौरान वनमंत्री सुखराम विश्नोई का कहना था कि मुकुंदरा में प्रे बेस बढ़ाने के बाद ही वहां टाइगर की शिफ्टिंग की प्रक्रिया पूरी की जाएगी।
रणथंभौर टाइगर रिजर्व में बसे गांव और उनमें रहने वाले परंपरागत शिकारी परिवारों के बच्चों को वन्यजीवों के प्रति जागरुक किया जाएगा ताकि वह शिकार की प्रवृत्ति को छोड़े। बैठक में प्रदेश के तीनों टाइगर रिजर्व से जुड़े पुराने प्रस्तावों की अनुशंसा की गई साथ ही नई कार्य योजनाओं पर भी चर्चा कर उनका अनुमोदन किया गया। बैठक में तीनों टाइगर रिजर्व में गांव विस्थापन प्रक्रिया को तेज करने, सरिस्का में टूरिज्म के लिए नए रूट्स खोलने,इलेक्ट्रिकल्स के संचालन, टाइगर रिजर्व के स्टाफ को यथावत रखने, वन संरक्षक को मुख्य वन संरक्षक के अधिकार के लिए संशोधन परिपत्र तैयार करने सहित विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की गई। बैठक में हॉफ श्रुति शर्मा, चीफ वाइल्ड लाइफ वार्डन मोहन लाल मीणा, रणथंभौर के फील्ड डायरेक्टर टीसी वर्मा, सरिस्का के फील्ड डायरेक्टर आरएन मीणा और मुकुंदरा के फील्ड डायरेक्टर सेडूराम यादव मौजूद रहे।
कोविड.19 गाइडलाइन का हो रहा पालन
बैठक के बाद वन मंत्री सुखराम बिश्नोई ने बताया कि टाइगर रिजर्व में सुरक्षित पर्यटन के लिए कोविड.19 गाइडलाइन का पालन किया जा रहा है। मुकुंदरा में टाइगर शिफ्ट करने से पहले जरूरी औपचारिकताएं पूरी किए जाएंगी। उनका कहना था कि गांवों के विस्थापन में धन की कमी आड़े नहीं आएगी। जल्द ही वन विभाग द्वारा तैयार प्रस्ताव पर वित्तीय स्वीकृति जारी की जा सकती है।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned