अंग्रेजी बोलने-समझने में आ रही परेशानी का हल है वॉयस ट्रांसलेटर

अंग्रेजी बोलने-समझने में आ रही परेशानी का हल है वॉयस ट्रांसलेटर
अंग्रेजी बोलने-समझने में आ रही परेशानी का हल है वॉयस ट्रांसलेटर

Abhishek Sharma | Publish: Aug, 29 2019 01:45:27 PM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

हिंदी बोलने वाले व्यक्ति के लिए अंग्रेजी, जर्मन, स्पेनिश आदि भाषाएं बोलना और समझना आमतैार पर इतना आसान नहीं होता। लेकिन तकनीक की मदद से इसे बेहद आसान बनाया जा सकता है। किसी भी भाषा को समझने और अपनी भाषा में बदलने का आसान रास्ता है वॉयस ट्रांसलेटर डिवाइस।

हिंदी बोलने वाले व्यक्ति के लिए अंग्रेजी, जर्मन, स्पेनिश आदि भाषाएं बोलना और समझना आमतैार पर इतना आसान नहीं होता। लेकिन तकनीक की मदद से इसे बेहद आसान बनाया जा सकता है। किसी भी भाषा को समझने और अपनी भाषा में बदलने का आसान रास्ता है वॉयस ट्रांसलेटर डिवाइस।


बीते दिनों डिस्कवरी चैनल का शो मैन वर्सेज वाइल्ड प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मौजूदगी के कारण देश-विदेश में सुर्खियों में रहा था। इसमें प्रधानमंत्री मोदी शो के होस्ट बेयर ग्रिल्स के साथ जंगल में एडवेंचर करते हुए हिंदी में बात कर रहे थे। जब यह शो प्रसारित किया गया तो एक बड़ा सवाल खड़ा हुआ कि मोदी की हिंदी को शो के होस्ट बेयर ग्रिल्स कैसे समझ पा रहे थे। किसी ने अंदाजा लगाया कि यह शो बाद में एडिट किया गया होगा तो कुछ ने कहा कि इसके दृश्यों को कई बार कैमरे पर शूट किया गया होगा। लेकिन इसकी हकीकत का खुलासा खुद प्रधानमंत्री ने रेडियो कार्यक्रम मन की बात कार्यक्रम में किया। उन्होंने बताया कि वे हिंदी बोले जा रहे थे और बेयर ग्रिल्स उसे आसानी से समझ पा रहे थे। मोदी ने बताया कि बेयर ग्रिल्स ने उनकी हिंदी को समझने के लिए तकनीकी मदद ली। दरअसल बेयर ने अपने कान में एक कार्डलैस डिवाइस लगा रखा था। यह डिवाइस एक वॉयस ट्रांसलेटर था, जो एक भाषा का दूसरी भाषा में अनुवाद कर सकता था। इस कारण मोदी हिंदी बोले जा रहे थे और बेयर इस डिवाइस की मदद से आसानी से अंग्रेजी के अनुवाद रूप में सुन पा रहे थे। मोदी ने कहा कि जब वे हिंदी में बोलते थे तो यह उपकरण तुरंत ही उसका अनुवाद अंग्रेजी में करता था। इसके कारण बेयर उनकी हिंदी समझने में सफल रहे और दोनों के बीच होने वाली बातचीत काफी सहज लगी।

दुभाषिये की तरह काम करता है वॉयस ट्रांसलेटर

वॉयस ट्रांसलेटर एक दुभाषिये की तरह काम करता है। इस डिवाइस में पहले से ही विभिन्न भाषाओं की वॉकेबुलेरी यानी शब्दावली डाली गई होती है। जब किसी एक भाषा में इनपुट दिया जाता है तो जिस भाषा में आप उसका जवाब सुनना चाहते हैं, उसका अनुवाद करके बता दिया जाता है। इस तरह के उपकरण एक तरफा संवाद भी कर सकते हैं और दो तरफा संवाद भी। आमतौर पर इस तरह के उपकरणों में माइक और स्पीकर होते हैं। इन्हें स्मार्टफोन की मदद से ब्लूटूथ डिवाइस या कार्डलैस डिवाइस से भी जोड़ा जा सकता है। ये इस तरह काम करते हैं कि जब एक व्यक्ति कुछ बोलता है तो दूसरा व्यक्ति उसका अनुवाद सुन सकता है।

पर्सनल से लेकर प्रोफेशनल लाइफ में मददगार

ये ट्रांसलेटर पर्सनल लाइफ से लेकर प्रोफेशनल लाइफ में भी मददगार हैं। जब कभी भी आप किसी दूसरे देश में घूमने जाते हैं तो यह आपके लिए सहयोगी के रूप में मददगार बनता है। आप इस ट्रांसलेटर की मदद से वहां के लोगों से संवाद स्थापित कर सकते हैं। यह न केवल आपके सवाल को वहां की लोकल लैंग्वेज में सटीक अनुवाद करके बताएगा, बल्कि लोगों से मिले जवाब का सही अनुवाद भी आपको करके देगा। यह आपकी चलती-फिरती डिक्शनरी बन सकती है। ऐसे में आपको अपने हाथ में डिक्शनरी लेकर चलने की जरूरत नहीं होगी। ऐसे में किसी देश की भाषा न आने पर भी आप वहां ट्रिप का पूरा आनंद ले पाएंगे। यदि आप अपने व्यवसाय या नौकरी के सिलसिले में विदेशों में डील करते हैं तो यह कार्पोरेट मीटिंग्स, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग आदि मामलों में आपकी मदद कर सकता है। किसी भी भाषा को सीखने और समझने में भी यह आपकी मदद करता है। इसकी मदद लेने से भाषा की सीमाएं कभी भी आपकी प्रगति में रोडे पैदा नहीं करेंगी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned